पुस्तक-रोशनी के अंकुर(लघुकथा) अभिरुचि ....शब्दों का जाल बुनना, नयी चीजे सीखना, सपने देखना सविता मिश्रा 'अक्षजा' शिक्षा ..स्नातक पैतालीस साझा-संग्रह | रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं तथा बेब पत्रिकाओं में लगातार छपती रहती हैं | सम्मान - "शब्द निष्ठा लघुकथा सम्मान" 2017, व्यंग्य सम्मान" 2018, लघुकथा विधा में 'जय विजय रचनाकार सम्मान'| "कलमकार कहानी सांत्वना सम्मान" 2018 गहमर में 2018 "समाज सेवी सम्मान" .. अध्यक्षा, महिला काव्य मंच , आगरा .

    No Novels Available

    No Novels Available