लिखने के लिए शब्दों की नहीं जज्बातों की जरूरत है। शब्द खुद ब खुद लाइन में गुथ जाएंगे। मैं अपने लेखन से लोगों के साथ जुड़ना चाहती हूँ। और मैं कितना जुड़ पाती हूँ वो कमेंट के द्वारा पता चलता है। शायद अभी मैं उतने अच्छे से नहीं जोड़ पाती हूँ तभी तो विव लाइक और कमेंट कम ही रहते हैं। पोस्ट डालने के बाद बार बार देखना कितने लोगों ने देखा कमेंट किया। कुछ फेवरिट लोग हैं जब उनका लाइक आ जाता है तो लगता है शायद अच्छा लिखा है मैंने इसलिए हर पोस्ट पर उन स्पेशल लोगों का इंतजार रहता है। ig - @thevoiceofheart18