ये कलम है क़ातिल, सो रुकेगी नहीं, अभी कुछ कत्ल करने हैं, अल्फाजों से...!!!

    • 108