Vo akeli ladki aur rat by Khushi Saifi in Hindi Social Stories PDF

वो अकेली लडकी और रात

by Khushi Saifi Matrubharti Verified in Hindi Social Stories

सब की नज़रों के खोफ से वो कुछ और अपने अंदर सिमट गई। ट्रेन हल्की हल्की सीटी दे कर अपनी पूरी रफ्तार पकड़ चुकी थी। अब ट्रैन से नीचे उतरना ना मुमकिन था -Khushi Saifi