अन्तिम पत्र... बचपन की दोस्त के नाम !

by NR Omprakash Saini in Hindi Love Stories

हाई...! घमंडी...क्या लिखूं? कुछ समझ नहीं आ रहा है। कहना तो बहुत कुछ चाहता हूं। लेकिन क्या कहूं? कहा से शुरू करूं? कुछ सूझता नहीं है। डरता हूं कहीं फिर से तुम नाराज़ नहीं हो जाओ।कल आपकी दोस्त अंजलि ...Read More