Mukhbir - 15 by राज बोहरे in Hindi Social Stories PDF

मुख़बिर - 15

by राज बोहरे in Hindi Social Stories

मुख़बिर राजनारायण बोहरे (15) ब्याह कृपाराम की याददास्त बड़ी तेज है । जब उसका ब्याह हुआ तब वह दस बरस का रहा होगा, लेकिन उस दिन जब किस्सा सुनाने बैठा तो आंख मूंद कर इस तरह राई-रत्ती बात सुनाता ...Read More