Sanjha by Prabodh Kumar Govil in Hindi Classic Stories PDF

सांझा

by Prabodh Kumar Govil Verified icon in Hindi Classic Stories

- सेव क्या भाव हैं? मैंने एक सेव हाथ में उठाकर उसे मसलते हुए लड़के की ओर देखते हुए पूछा। - साठ रुपए किलो! कह कर उसने आंखें झुका लीं। मैं चौंक गया, क्योंकि अभी थोड़ी देर पहले मैंने ...Read More