Do balti pani - 11 by Sarvesh Saxena in Hindi Humour stories PDF

दो बाल्टी पानी - 11

by Sarvesh Saxena Matrubharti Verified in Hindi Humour stories

पिंकी धीरे से नीचे उतर कर आती है तोसुनील आवाज को दबाते हुए मुंह पर हाथ रख कर बोला - "अरे यार क्या करती हो कितनी देर से हम मुर्गे की तरह एक टांग पर खड़े हैं और तो ...Read More