Do balti pani - 14 by Sarvesh Saxena in Hindi Humour stories PDF

दो बाल्टी पानी - 14

by Sarvesh Saxena Matrubharti Verified in Hindi Humour stories

मिश्राइन की बाल्टी में बाल मिलते ही गांव में जैसे भूचाल आ गया, ऐसा लग रहा था कि बाल्टी में बाल नहीं कोई बम मिल गया हो | आज दोपहर के 12:00 बज रहे थे लेकिन नल पर कोई ...Read More