Hum bhi adhure tum bhi kuchh aadhe by डिम्पल गौड़ in Hindi Love Stories PDF

हम भी अधूरे..तुम भी कुछ आधे

by डिम्पल गौड़ in Hindi Love Stories

तेज कदम बढ़ाते हुए विशाखा सूनी सड़क पर चली जा रही थी। सड़क किनारे लगे कतारबद्ध अशोक के वृक्ष भी असक्षम थे उसके मन की वेदना को मिटाने में ।सड़क के उस ओर मोड़ पर बने उस नर्सिंग होम ...Read More