Satte maassab by राजेश ओझा in Hindi Humour stories PDF

सत्ते मास्साब

by राजेश ओझा in Hindi Humour stories

सत्ते मास्साब जितने योग्य अध्यापक हैं उतने ही अच्छे विद्यार्थी भी थे..छात्र जीवन से प्रारंभ हुआ उनका प्रतिभा प्रदर्शन आज तक बिला नागा गतिमान है..आज भी कोई बात हो भाई तुरंत धारा प्रवाह बोलते हैं जैसे सरस्वती मायी ने ...Read More