Saloni ka phone by राजेश ओझा in Hindi Classic Stories PDF

सलोनी का फोन

by राजेश ओझा in Hindi Classic Stories

आज होली के त्योहार में जहां सब मगन थे वहीं महंगू का चित्त खोया खोया था..महंगू की दुलहिन अंदाजा लगा तो रहीं थीं पर एक अन्जाने भय से कांप जातीं..घर में उल्लास का माहौल था..दोपहर के एक बज गये ...Read More