Badnuma daag by Sandeep Tomar in Hindi Love Stories PDF

बदनुमा। दाग

by Sandeep Tomar in Hindi Love Stories

“बदनुमा दाग”वो एक लाइब्रेरीनुमा कमरा था। मैंने कमरे को हैरत भरी निगाह से देखा। इतनी सारी किताबें किसी के घर पर पहली बार देख रही थी। इतनी किताबें तो पढ़ते हुए कॉलेज की लाइब्रेरी में ही देखी थी।मैंने एक ...Read More