Do balti pani - 29 by Sarvesh Saxena in Hindi Humour stories PDF

दो बाल्टी पानी - 29

by Sarvesh Saxena Matrubharti Verified in Hindi Humour stories

धुयें का असर होते ही सुनील को बेहोशी सी आने लगी और उसका शरीर ढीला पडने लगा |“ बोल ......कौन है तू.......कौन है तू...और कहां से आई है ..बता वरना बच नही पायेगी....., बोल आखिर कौन है तू....क्या चाहती ...Read More