do baalti paani - 31 by Sarvesh Saxena in Hindi Humour stories PDF

दो बाल्टी पानी - 31

by Sarvesh Saxena Matrubharti Verified in Hindi Humour stories

डेढ से दो घंटा हो गया पर बिजली वाले बाबू जी ने वर्मा जी और मिश्रा जी की कोई सुध ना ली और थक हारकर इस बार वर्मा जी उस बाबू के पास आकर बोले “ अरे भाई साहब ...Read More