Who came through my home by Annada patni in Hindi Humour stories PDF

कौन आया मेरे घर के द्वारे

by Annada patni in Hindi Humour stories

आवत ही हरषै नहीं, नैनन नहीं सनेह, तुलसी तहाँ न जाइये, कंचन बरसे मेह ।। संत तुलसीदास जी कहते हैं कि जहाँ आपको आते देख, लोग खुश न हों और जिनकी आँखों में आपके लिए प्रेम न हो, ऐसी ...Read More