कोतवाल की गर्दन (व्यंग्य कथा ) by Alok Mishra in Hindi Humour stories PDF

कोतवाल की गर्दन (व्यंग्य कथा )

by Alok Mishra in Hindi Humour stories

कोतवाल की गर्दन एक नगर था, छोटा सा । इस नगर में रहने वाले लोग बहुत ही भोले- भाले थे । वे सुनी बातों को सत्य समझते और जो दिखता उसे परमसत्य । इस नगर का कोतवाल ...Read More