Risky Love - 32 by Ashish Kumar Trivedi in Hindi Thriller PDF

रिस्की लव - 32

by Ashish Kumar Trivedi Matrubharti Verified in Hindi Thriller

(32)शाहीन अब स्टिक के सहारे घर में इधर उधर चलती थी। प्लास्टर के कारण बिस्तर में बैठे बैठे वह ऊब जाती थी। इसलिए ‌कभी कभी बालकनी में जाकर बैठ जाती थी। इस समय भी वह बालकनी में बैठी थी। ...Read More