Raaj-Sinhasan - 5 by Saroj Verma in Hindi Classic Stories PDF

राज-सिंहासन--भाग(५)

by Saroj Verma Matrubharti Verified in Hindi Classic Stories

राजकुमार सहस्त्रबाहु अनादिकलेश्वर ऋषि के आश्रम में बिल्कुल सुरक्षित थे,कोई भी वशीकरण शक्तियांँ उन्हें कोई भी हानि नहीं पहुँचा सकतीं थीं,उनकी रक्षा के लिए महामंत्री भानसिंह सदैव तत्पर थे और माँ हीरादेवी तथा पिता घगअनंग उन्हें पुत्र सा ही ...Read More