ziddi ishq - 4 by Sabreen FA in Hindi Anything PDF

ज़िद्दी इश्क़ - 4

by Sabreen FA Matrubharti Verified in Hindi Anything

माहेरा को जब होश आया तो उसने खुद को एक अनजान जगह पाया। वोह जितनी भी बहादुर थी पर अब उसे इस जगह से डर लग रहा था। कमरे में बिल्कुल अंधेरा था। अचानक कमरे का दरवाजा खुला और ...Read More