BOYS school WASHROOM - 21 by Akash Saxena "Ansh" in Hindi Moral Stories PDF

BOYS school WASHROOM - 21

by Akash Saxena "Ansh" Matrubharti Verified in Hindi Moral Stories

अविनाश टॉर्च घुमाता हुआ तेज़ी से वाशरूम की तरफ़ बढ़ता है…..उसके भीगे जूतों की " पचर-पचर" की आवाज़ वहाँ अलग ही शोर मचा रही होती है। वो फट से वाशरूम का गेट खोलने लगता है…..लेकिन उसके ज़रा सा धक्का ...Read More