Apang - 49 by Pranava Bharti in Hindi Fiction Stories PDF

अपंग - 49

by Pranava Bharti Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

49 ---- भानु को चिंता होना स्वाभाविक ही था यदि माँ-बाबा आए तो राजेश को कहाँ से लाएगी ?ऐसे आदमी के पाँव भी तो नहीं पड़ा जा सकता जो इस स्वभाव व ख़राब नीयत का हो जिसके इरादों में ...Read More