Mere Ghar aana Jindagi - 1 by Ashish Kumar Trivedi in Hindi Fiction Stories PDF

मेरे घर आना ज़िंदगी - 1

by Ashish Kumar Trivedi Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

(1) ऑफिस से लौटते हुए नंदिता ने एक जगह अपनी स्कूटी खड़ी की। सामने चार सीढ़ियां थीं। उन्हें चढ़कर वह मेडिकल शॉप के काउंटर पर पहुँची। पहले से मौजूद एक ग्राहक अपनी दवाओं के पैसे चुका रहा था। उसके ...Read More