Apang - 70 by Pranava Bharti in Hindi Fiction Stories PDF

अपंग - 70

by Pranava Bharti Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

70 ------ भानुमति सदा से शिव-रात्रि का व्रत तो रखती थी लेकिन कभी भी मंदिर नहीं जाती थी | यह बात लाखी बहुत अच्छी तरह से जानती थी | न जाने कितने वर्ष हो गए थे भानु को मंदिर ...Read More