Ishq a Bismil - 46 by Tasneem Kauser in Hindi Fiction Stories PDF

इश्क़ ए बिस्मिल - 46

by Tasneem Kauser Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

लगभग एक घंटा वह वैसे ही बैठा रहा था। बिल्कुल खामोश, विरान सा। ज़मान ख़ान भी उसे छोड़ कर कहीं जाने को तय्यार नहीं थे। वह उठा था और बिना एक लफ्ज़ कहे कमरे से जा रहा था। ज़मान ...Read More