Best Book Reviews Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

Rob Roy
by Shamad Ansari

                             VOLUME -1                      *   CHAPTER - 1  ...

साहित्य की धरोहर-दादा श्री सीता किशोर खरे
by बेदराम प्रजापति "मनमस्त"

       साहित्य की धरोहर-दादा श्री सीता किशोर खरे-                (भाव सुमन)                             वेदराम प्रजापति मनमस्त                                  डबरा(ग्वा.)म.प्र                                 मो.9981284867 सादा जीवन उच्च विचार के आदर्श की

स्‍वतंत्र सक्‍सेना के विचार-गोस्टा समीक्षा
by बेदराम प्रजापति "मनमस्त"

गोस्‍टा तथा अन्‍य कहानियां  लेखक –श्री राजनारायण बोहरे    एक पाठक की प्रतिक्रिया                                                               स्‍वतंत्र कुमार सक्‍सेना     कहानी संग्रह में बारह कहानियां हैं एक बार पढ़ना शुरू करने पर ...

वह जो नहीं कहा - समीक्षा
by Sneh Goswami

  बहुत कुछ कहता 'वह जो नहीं कहा' (लघुकथा संग्रह : स्नेह गोस्वामी )==========================================000   ॥ पूर्वकथन : नई किताबें डाक में मेरे पास बहुत आती हैं। नये और ...

મારી નજરે 'મૃત્યુંજય' - બુક રીવ્યુ
by Vijeta Maru

મહાદેવ.... મહાદેવ....   આજે હું વાત કરવાનો છું એક એવા પુસ્તકની કે જે વાંચવા માટે તમારે એકાંત જરૂરી છે. એક એવી નવલકથા કે જેના પાત્રો, જગ્યા, ઘટના બધું જ ...

अक्टूबर जंक्शन-दिव्य प्रकाश दुबे
by राज बोहरे

अक्टूबर जंक्शन उपन्यास दिव्य प्रकाश दुबे द्वारा लिखा गया चर्चित उंपन्यास “अक्टूबर जंक्शन”हिंद युग्म द्वारा प्रकाशित है। इस उपन्यास में मूल कहानी एक युवक और युवती की मित्रता की ...

बाली का बेटा - राज बोहरे
by ramgopal bhavuk

राज बोहरे- उपन्यास बाली का बेटा                                बाल मन की नजर से समीक्षा        ...

आड़ा वख्‍त -राज नारायण बोहरे
by डॉ स्वतन्त्र कुमार सक्सैना

समीक्षा       आड़ा वख्‍त उपन्‍यास                        लेखक श्री राज नारायण बोहरे उपन्‍यास ग्रामीण पृष्‍ठ भूमि पर एक किसान शिवस्‍वरूप व उनके छोटे भाई स्‍वरूप के बारे में है। शिवस्‍वरूप जिन्‍हें ...

पूनम शुक्ला- उन्हीं में पलता रहा प्रेम
by राज बोहरे

पूनम शुक्ला के सँग्रह की समीक्षा पूनम शुक्ला का कविता संग्रह " उन्हीं में पलता रहा प्रेम " आर्य प्रकाशन मंडल नई दिल्ली ने प्रकाशित किया है। इस संग्रह ...

बघेली संस्कृति और प्रेम तपस्वी
by राज बोहरे

बघेली संस्कृति और प्रेम तपस्वी राजनारायण बोहरे   रेजा (उंपन्यास) लेखक-  स्वर्ण सिंह रघुवंशी प्रकाशक-राजेश्वरी प्रकाशन गुना मूल्य-200/- रुपये   रेजा नामक उपन्यास पिछले दिनों पढ़ने को मिला। यह ...

सहसा कुछ नहीं होता-रक्षा
by राजनारायण बोहरे

 सहसा कुछ नही होता-रक्षा स्त्री पीड़ा का अधिकृत आख्यान:सहसा कुछ नही होताराजनारायण बोहरेरक्षा ऐसी कवियत्रीयों में से हैं जो परंपरागत शिल्प और काव्य आधानों पर कविता न लिखकर सर्वथा मौलिक ...

पथ का चुनाव-कान्ता रॉय
by राजनारायण बोहरे

पथ का चुनाव:कान्ता रॉयपथ का चुनाव कथा संग्रह कांता रॉय की कुल 134 लघु कथाओं का संग्रह है जो ज्ञान गीता प्रकाशन दिल्ली से प्रकाशित है। संग्रह की लघु कथाएं ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी - रामगोपाल भावुक - समीक्षा
by राजनारायण बोहरे

समीक्षा            कृति- जादूगर जंकाल और सोनपरी कथाकार राजनारायण बोहरेसमीक्षक      रामगोपाल भावुक        कथाकार राजनारायण बोहरे को बचपन से ही किस्से कहानियां ...

ज्योति गजभिए की कहानियां
by राजनारायण बोहरे

डॉ ज्योति गजभिए मुंबई से हैं, वे लघु कथा,ग़ज़ल,मुकरी और दूसरी बहुत सी विधाओं मैं रचना करती हैं उनका कहानी संग्रह अयन प्रकाशन दिल्ली से प्रकाशित हुआ है। इस ...

जिहाद (मुंशी प्रेमचंद)
by Satish Thakur

''बहुत पुरानी बात है।हिंदुओं का एक काफ़िला अपने धर्म की रक्षा के लिए पश्चिमोत्तर के पर्वत-प्रदेश से भागा चला आ रहा था। मुद्दतों से उस प्रांत में हिंदू और ...

सच, समय और साक्ष्य-शैलेन्द्र शरण
by राजनारायण बोहरे

शैलेंद्र शरण का कविता संग्रह "सच" समय और साक्ष्य" शिवना प्रकाशन से छपा हुआ एक शानदार संकलन है , जिसमें कुल 88 कविताएं संकलित हैं ।कविता संकलन की कविताएं ...

अरुण सातले-शब्द गूँज
by राजनारायण बोहरे

अरुण सातले की कविताओं का सँग्रह"शब्द गूँज" शिवना प्रकाशन द्वारा प्रकाशित होकर पिछले दिनों सामने आया है ।इसमें कभी की कुल 77 कविताएं शामिल हैं ।लसंग्रह की अधिकांश कविताएं ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी - राज बोहरे
by रामगोपाल तिवारी

समीक्षा              कृति- जादूगर जंकाल और सोनपरी             कथाकार राजनारायण बोहरे समीक्षक      रामगोपाल भावुक         कथाकार राजनारायण बोहरे को बचपन से ही किस्से कहानियां सुनने का शौक रहा ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 20 - अंतिम भाग
by राजनारायण बोहरे

सुधाकर शुक्ल और ’’देवदूतम’’ -राधारमण बैद्य             विल्हण और पंडितराज जगन्नाथ के बाद म्लान काव्य के मन को पुनः प्रमुदित करने वाले श्री ’’सुधाकर’’ न केवल प्रदेश की विभूति ...

'दहशत' - Book Review
by Ritu Bhanot

Book Review of 'Dehshat'  शहर के वीभत्स पर्दे के पीछे के अपराध में जीवन का स्पंदन अंग्रेजी साहित्य में जासूसी और नेगेटिव शेड्स वाले थ्रिलर उपन्यास का चलन हिन्दी ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 19
by राजनारायण बोहरे

दतिया अध्यात्म साहित्य और दर्शनीयता के वातायन   अध्यात्म-             दतिया धर्म और अध्यात्म की प्रसिद्ध साधना भूमि रही है। यहां के विभिन्न अंचल सनक सनन्दन की सनातन भूमि ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 18
by राजनारायण बोहरे

एक अद्भुत प्रभावी कृति-गुरदयालसिंह का ‘‘परसा’’ ‘ राधारमण वैद्य                  पंजाब के स्वाभिमान, अक्खड़पन, आत्म गौरव और सधुक्कड़ी स्वभाव को उजागर करता यह ‘‘परसा’’ नामक उपन्यास अपने ढंग ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 17
by राजनारायण बोहरे

अस्तित्व रक्षण की रचनात्मक गूँज-दर्दपुर राधारमण वैद्य                  उपन्यास केवल साहित्यिक रूप नहीं है, वह जीवन-जगत को देखने की एक विशेष दृष्टि है और मानव-जीवन और समाज का ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 16
by राजनारायण बोहरे

आज की कहानी और आलोचक के नोट्स राधारमण वैद्य                  ’’एक शानदार अतीत कुत्ते की मौत मर रहा है, उसी में से फूटता हुआ एक विलक्षण वर्तमान रू-ब-रू ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 15
by राजनारायण बोहरे

  स्कन्दगुप्त विक्रमादित्य-में ऐतिहासिकता के ब्याज से समसामयिकता का चित्रण राधारमण वैद्य                  श्री जय शंकर प्रसाद (1889-1937 ई0) में धकियाकर आगे बढ़ने की प्रवृत्ति नहीं है, बल्कि ...

घनश्यामदास पाण्डेय और उनका काव्य
by कृष्ण विहारी लाल पांडेय

घनश्यामदास पाण्डेय और उनका काव्य वर्तमान शताब्दी के प्रथमार्द्ध में झांसी जिले और उसके आसपास जो काव्य सक्रियता थी उसके पुरुरस्कर्ताओं में कविवर घनश्याम दास पांडेय का प्रमुख स्थान ...

आठवणींचे पक्षी - पुस्तक परीक्षण
by Suraj Kamble

आठवणींचे पक्षी - प्र.इ.सोनकांबळे                                        फार दिवसांपूर्वी म्हणजे जवळपास सहा- सात महिन्यांपूर्वी प्रतिलिपी च्याच एका मैत्रिणीने " आठवणींचे पक्षी " या पुस्तकांविषयी काही  माहिती सांगितली होती आणि मला वाचनाची ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 14
by राजनारायण बोहरे

                 केशव कृत ’विज्ञान-गीता’: परम्परा-पोषण और युग चित्रण                राधारमण वैद्य                                   केशव की काव्य-साधना कई रूपों में प्रकट हुई। केशव के मुक्तक, जहाँ शास्त्रीय रस-रीति और ...

उर्दू रामायण-नवलसिंह प्रधान
by कृष्ण विहारी लाल पांडेय

नवलसिंह प्रधान कृत उर्दू रामायण बुंदेलखंड के अनेक देशी राज्यों में रहे प्रसिद्ध कवि नवल सिंह प्रधान अथवा नवल सिंह कायस्थ ने अनेक ग्रंथों की रचना की है उर्दू ...

राधारमण वैद्य-भारतीय संस्कृति और बुन्देलखण्ड - 13
by राजनारायण बोहरे

आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी का ‘‘आलोक पर्व ’’ राधारमण वैद्य   परम्परा, लोक और शासन समन्वित संस्कृति विवेचन                 आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी बहु प्रतिभा के धनी थे, उनका ...

हजारी प्रसाद द्विवेदी -मूल्यों का पुनर्पाठ
by कृष्ण विहारी लाल पांडेय

हजारी प्रसाद द्विवेदी का साहित्यः मूल्यों का पुनर्पाठ डॉ० के.बी.एल.पाण्डेय साहित्य को व्यापक मानवतावाद और मूल्यवत्ता से जोड़ने वाले तथा मनुष्य को सभी सरोकारों के केन्द्र में रखने वाले ...

अवध किशोर सक्सेना - अनुभव के पैगाम
by राज बोहरे

नेतागिरी हो गई, गुंडों की दुकान: बौधगम्य दोहावली समीक्षक-राजनारायण बोहरे अनुभव के पैगाम नामक दोहा संग्रह में 705 दोहे शामिल है। यह संग्रह दतिया के बुजुर्ग कवि अवध किशोर ...