Best Book Reviews Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

સૌરાષ્ટ્રનો ઇતિહાસ - 3
by ભરતસિંહ ગોહિલ ગાંગડા - ગાંગડગઢ

પ્રકરણ ૨ જું શક સમય ઈ. સ. પૂર્વે ૭૦ થી ઈ. સ. ૩૯૫શક: ઈતિહાસના તખ્તા ઉપર તે પછી શેક લોકોને પ્રવેશ થાય છે. શક જાતિએ આ દેશ ઉપર ઈ. સ. ...

गोस्टा तथा अन्य कहानियाँ - रामगोपाल भावुक
by राज बोहरे

समीक्षा - गोस्टा तथा अन्य कहानियाँ रामगोपाल भावुक कहानियाँ काल विशेष की धरोहर होतीं है। उन्हें जब हम पढ़ते हैं तो वर्तमान को सामने रखकर पढ़ना शुरू करते हैं। ...

कबूला पुल महेंन्द्र फुसकेले
by राजनारायण बोहरे

पुस्तक समीक्षा-                                      कबूला पुल महेंन्द्र फुसकेले                                        हिन्दी कहानी आज ...

मुख़विर - वेदराम प्रजापति ‘मनमस्त
by राज बोहरे

उपन्यास-मुख़विर- राजनारायण बोहरे समीक्षा दृष्टि- वेदराम प्रजापति ‘‘मनमस्त’’ मनुष्य का महत्व इस बात में नहीं है कि वह कितना धनी, कितना यषस्वी, कितना बली अथवा उच्च पदासीन है बल्कि ...

उसकी जमीन-ज्ञानप्रकाश विवेक
by राजनारायण बोहरे

उसकी जमीन ज्ञानप्रकाश विवेक        जिंदगी का तथ्य परक विष्लेषण    उसकी जमीन गजलगो ज्ञानप्रकाश विवेक की कहानियों का नया संग्रह है जो पिछले दिनों प्रकाशित  हुआ है। यह उनका ...

સૌરાષ્ટ્રનો ઇતિહાસ - 2
by ભરતસિંહ ગોહિલ ગાંગડા - ગાંગડગઢ

પ્રકરણ પહેલા નું ચાલુ પ્રાચીન સમયચિત્યો : અશોકના સમયમાં બૌદ્ધ ધર્મનું ખૂબ જોર હતું અને બૌદ્ધ સાધુઓ ને સાધ્વીઓ આ દેશમાં તેમના વિહારે બનાવી રહેતાં હતાં. આ સમયમાં બનાવેલા આવા ...

मुखबिर - रामगोपाल भावुक
by राज बोहरे

उपन्यास-मुख़विर- राजनारायण बोहरे                                            डाकूजीवन पर एक बृहद उपन्यास                           कथाकार के आइने में मुखबिर उपन्यास                                     समीक्षक                                               

कहाँ से कहाँः सतीश जायसवाल
by राजनारायण बोहरे

पुस्तक समीक्षा-       कहाँ से कहाँः सतीश जायसवाल का कहानी संग्रह                                          उम्दा कहानियां   सतीश जायसवाल हिन्दी के ऐसे लेखक हैं जो अपनी कहानियां पूरी कला से रचते हैं। ...

यात्रीगण कृप्या ध्यान दें - राम नगीना मौर्य
by राजीव तनेजा

80 के दशक की बसु चटर्जी या ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्मों में जिस तरह आम मध्यमवर्गीय व्यक्तियों को नायक नायिका बना हल्की फुल्की कहानी के ज़रिए छोटी छोटी बातों ...

कछुए की तरहः राजेन्द्र दानी
by राजनारायण बोहरे

समीक्षा                        कथा संग्रहः कछुए की तरहः राजेन्द्र दानी   राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित राजेन्द्र दानी का नया कथा संग्रह ”कछूए की तरह” पिछले दिनों हिन्दी में  अचानक आये संग्रहों ...

दीन दयाल उपाध्याय का एकात्म-मानवतावाद और हमारा साहित्य
by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

        दीन दयाल उपाध्याय का एकात्म-मानवतावाद और हमारा साहित्य                                                       रामगोपाल भावुक                                                     मो0 9425715707           आज हम एकात्मवाद का दर्शन पर विचार करें। उसके प

राजनारायण बोहरे का इज्जत-आबरू -देवशंकर नवीन
by राज बोहरे

भयावह परिस्थितियों पर विजय की आकांक्षा देवशंकर नवीन इज्जत-आबरू राजनारायण बोहरे की बारह कहानियाँ का ताजा संकलन है। आज की युवा पीढ़ी के सामने कथा लेखन के आयाम काफी ...

पीछा करने वाली आवाज -दिनेश नंदिनी डालमिया
by राजनारायण बोहरे

   पीछा करने वाली आवाज -दिनेश नंदिनी डालमिया                                    अच्छी कथा पर कमजोर योजना पीछा करने वाली आवाज  श्रीमती दिनेश नंदिनी डालमियां का नया कथा संग्रह पिछले दिनों नेशनल ...

अज्ञेय के काव्य में औपन्यासिकता
by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

                  अज्ञेय के काव्य में औपन्यासिकता                                                        रामगोपाल भावुक                                                     मोबा. 09425715707       अज्ञेय जी की कविता ’’यह दीप अकेला’’ में एक अकेला दीपक अन्धक

સૌરાષ્ટ્રનો ઇતિહાસ - 1
by ભરતસિંહ ગોહિલ ગાંગડા - ગાંગડગઢ

આ લેખ અનેક દૃષ્ટિએ આવકારદાયક છે. એક જ લેખ માં સૌરાષ્ટ્રને આમૂલ ઈતિહાસ અહીં જ મળે છે. સૌરાષ્ટ્રના ઇતિહાસની વિશિષ્ટતા એ છે કે, એનો ઈતિહાસ વિવિધતાભર્યો છે. રાજકીય ...

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य - 16
by padma sharma

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य 16 डॉ. पदमा शर्मा सहायक प्राध्यापक, हिन्दी शा. श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी (म0 प्र0)   अध्याय- छह                                                   ...

आदमी जात का आदमी-स्वयं प्रकाश
by राज बोहरे

स्तक समीक्षा‘ आदमी जात का आदमी-स्वयं प्रकाशराजनारायण बोहरेआदमी जात का आदमी कहानी संग्रह स्वयं प्रकाश का छठवां कहानी संग्रह है जो किताबघर दिल्ली से प्रकाशित हुआ है। इस संग्रह ...

यहां कुछ लोग थे- राजेन्द्र लहरिया
by राजनारायण बोहरे

समीक्षा             कहानीसंग्रह:  यहां कुछ लोग थे- राजेन्द्र लहरिया                               .....भारतीय समाज की कथा            सामान्यतः हिन्दी का पाठक यह जानता है कि लम्बी कहानी हिन्दी की अपनी निजी खोज ...

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य - 15
by padma sharma

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य 15 डॉ. पदमा शर्मा सहायक प्राध्यापक, हिन्दी शा. श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी (म0 प्र0) अध्याय-पाँच                                           पाश्चात्य संस्कृतिः बदलते ...

लॉकडाउन डेज़ - कामना सिंह
by राजीव तनेजा

सामाजिक प्राणी होने के नाते मनुष्य समाज में सबके साथ घुल मिल कर रहने का आदि है। ऐसे में यह कल्पना करना भी मुश्किल हो जाता है कि हम ...

हिमाचल बाल साहित्य पर बारीक नजर
by Smita

आप जिस परिवेश में रहते हैं, वे आपको किस्से-कहानियां और कविताएं गढ़ने के लिए प्रेरित करता है। हिमाचल प्रदेश में सफेद बर्फ से ढंकी पहाड़ियां, जंगल, दूर-दूर तक फैली ...

आशाओं के नए महल-महेश कटारे सुगम
by राज बोहरे

महेश कटारे सुगम का ग़ज़ल संग्रह खरी बात कहती गजल :आशाओं के नए महल रश्मि प्रकाशन लखनऊ  महेश कटारे सुगम का ग़ज़ल संग्रह आशाओं के नए महल रश्मि प्रकाशन ...

नाच के बाहर- गौरीनाथ
by राजनारायण बोहरे

समीक्षा                      कथा संग्रह: नाच के बाहर- गौरीनाथ                                  तमाम उम्मीदों का सवब           ‘नाच के बाहर’ युवा कथाकार गौरीनाथ का पहला कथा संग्रह है। इसमें  उनकी दर्जन भर कहानियां ...

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य - 14
by padma sharma

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य 14 डॉ. पदमा शर्मा सहायक प्राध्यापक, हिन्दी शा. श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी (म0 प्र0) अध्याय - चार                                         ...

वीरेंद्र जैन: देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर
by राज बोहरे

वीरेंद्र जैन: देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर राजनारायण बोहरे  वीरेंद्र जैन दतिया का नाम व्यंग  की फुटकर मार के लिए जाना जाता है |धर्म युग में वीरेंद्र ...

कहानी संग्रह- जमुनीः मिथिलेश्वर
by राजनारायण बोहरे

समीक्षा कहानी संग्रह- जमुनीः मिथिलेश्वर रोचक किस्सागोई मिथिलेश्वर हिन्दी कहानी के एक सशक्त कथाकार हैं। हिन्दी कथा जगत में मूल रूप से गॉंव के लोगों की, गॉंव के मुद्दों ...

गोस्टा तथा अन्य कहानियाँ-राजनारायण बोहरे
by रामगोपाल तिवारी

समीक्षा -                            गोस्टा तथा अन्य कहानियाँ                                                            समीक्षक  रामगोपाल भावुक                    कहानियाँ काल विशेष की धरोहर होतीं है। उन्हें जब हम ...

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य - 13
by padma sharma

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य 13 डॉ. पदमा शर्मा सहायक प्राध्यापक, हिन्दी शा. श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी (म0 प्र0) अध्याय - चार                                         ...

मुखबिर-राजनारायण बोहरे
by रामगोपाल तिवारी

                  उपन्यास-मुख़विर- राजनारायण बोहरे                    डाकूजीवन पर एक बृहद उपन्यास                           कथाकार के आइने में मुखबिर उपन्यास                                           समीक्षक  रामगोपाल भावुक         चंबल क्षेत्र का इतिहास

घुरिया :मीना पाठक
by राज बोहरे

  पुरुष पीड़ित स्त्रीयों की गाथाएँ                                               ...

जंगः ए असफल
by राजनारायण बोहरे

पुस्तक समीक्षा-                      जंगः ए असफल                             ए असफल की कथासंसार में सफल दस्तक   ए0 असफल का नया कहानी संग्रह “जंग“ म.प्र. साहित्य परिषद भोपाल ने प्रकाशित किया है। ...

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य - 12
by padma sharma

ग्वालियर संभाग के कहानीकारों के लेखन में सांस्कृतिक मूल्य 12 डॉ. पदमा शर्मा सहायक प्राध्यापक, हिन्दी शा. श्रीमंत माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी (म0 प्र0) अध्याय - चार                                         ...