Best Poems Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

મારો કાવ્ય ઝરૂખો ભાગ :02
by Hiren Manharlal Vora

કાવ્ય : 1અશ્રુ મારા વર્ષી પડ્યા..ભીખ માંગતા હાથ જોઈઅશ્રુ મારા વર્ષી પડ્યા.. ચાર રસ્તે ભૂખ્યા પેટ જોઈઅશ્રુ મારા વર્ષી પડ્યા... નાના બાળકોના હાથમાં કટોરાજોઈ અશ્રુ મારા વર્ષી પડ્યા.. ભીખ માંગતા વૃદ્ધ ને ...

ভালবাসা
by Darshita Babubhai Shah

প্রেম ব্যথা এবং ওষুধও দেয়। ভাগ্যের বিষয় কী তা কে পেয়েছে **************************************** এমনকি ব্যথা-নিরাময় মলম দিতেও আসেনি। আমি তাঁর অপেক্ষায় রয়েছি, আমি কখন মরে যাব **************************************** গতকাল অবধি, আমি ...

নয়ন যে ধন্য - 4
by Mallika Mukherjee

নয়ন যে ধন্য লেখক নরেন্দ্র মোদী (4) _______________________________________ অনুবাদ মল্লিকা মুখার্জী _______________________________________ প্রার্থনা মানবের ভিড় হোক বা মেলা, আপনজনকে স্বাগত জানাই আমার আবাসে। দ্বারে লেখা রয়েছে- ‘সত্যের সাদর অভ্যর্থনা’ ...

શબ્દોના સથાવારે (અછાંદસ કાવ્યો)
by Naranji Jadeja

"નિયતિ"   નિયતિ તારો ખેલ નિરાળો છે! તારી સામે હર કોઈ લાચાર છે.   જીવન મરણ પ્રભુના હાથમાં છે. નિયતિ કહે તારો શું વિચાર છે.?   દેશને માટે સો ...

محبت
by Darshita Babubhai Shah

محبت درد ہے اور دوا بھی دیتی ہے۔ قسمت کی بات کون ہے؟ **************************************** یہاں تک کہ درد سے نجات دینے والا مرہم بھی نہیں آیا۔ میں اس کا ...

नवल्या
by Devesh Kanase

एखाद्याला एकदम लिहायचं वेड लागावा तास काही तरी माझं झाल आणि मी खूप काही लिहू लागलो खूप काही कविता लिहिल्या माझं वय खूपच कमी आहे मी सध्या फक्त 16 ...

അഞ്ചു കവിതകൾ
by Sihabudheen chembilaly

  (1)  അച്ഛൻ ഒരു വര്‍ഷകാല പ്രഭാതത്തില്‍ നനുത്ത മണ്ണില്‍..... കാൽ പതിപ്പിച്ചു നടക്കുമ്പോള്‍ അറിയുന്നു ഞാൻ അച്ചന്റെ സ്നേഹം ...... ആ പാദങ്ങളിലായ് കുഞ്ഞ് പാദം ചേർത്ത് വെച്ച് പിച്ചവെച്ചൊരു ഓർമ്മകളും...... ശിശിരകാല പുലരിയില്‍ ഹിമകണമുര്‍ന്നോരെന്‍ ചില്ലകള്‍  കാഴ്

मी आणि माझे अहसास - 7
by Darshita Babubhai Shah

मी आणि माझे अहसास प्रेम वेदना आहे आणि औषध देखील देते. नशीब काय आहे कोणाला मिळाले **************************************** वेदना कमी करणारी मलम देण्यासाठीही आले नाही. मी त्याची वाट पाहात आहे, ...

સુરીલો સંવાદ
by Dr.Sarita

"રમત  માંડ તું શબ્દોની, લાગણીની કુકરી હું લઈને ઊભી છું."                        "શબ્દોની રમત માંડુ છું,                        લાગણીની ચોપાટ માંડુ છું." "હમણાં રાહ જોવાની છોડી દીધી હતી કોઈ પોતાનામાં વ્યસ્ત ...

নয়ন যে ধন্য - 3
by Mallika Mukherjee

নয়ন যে ধন্য লেখক নরেন্দ্র মোদী (3) _______________________________________ অনুবাদ মল্লিকা মুখার্জী _______________________________________ 27 গীত-বসন্ত অন্তে আরম্ভ, আরম্ভে অন্ত, হেমন্তের হৃদয়ে গাইছে বসন্ত! বয়স ষোল, কোথাও কোকিলের কুহু, কার প্রেমে ...

Happiness - 13
by Darshita Babubhai Shah

The burden of memories has increased, The eye is overflowing. ***************************************************** Feel the pressure on the eyelids, Feeling we have 'Run out of gas' emotionally. ***************************************************

मेरी कविता संग्रह भाग 1
by Prahlad Pk Verma

??????????????           अब हम भी इश्क दोबारा करेंगे  उजड़े हुए दिल फिर से बसेंगेहम कभी तो फिर से मोहब्बत करेंगेमाना दिल में जख्म अभी ताजा हैकभी तो ...

હું અને મારા અહસાસ - 12
by Darshita Babubhai Shah

હું અને મારા અહસાસ 12 હોઠ પર વાત આવી ને અટકી ગઈ કેમ?આંખ માં તોફાન આવી અટકી ગયું કેમ? ********************************************************* હૈયા ની વાત હોઠો પર આવી ગઈ,ના કહેવાની વાત ...

নয়ন যে ধন্য - 2
by Mallika Mukherjee

নয়ন যে ধন্য   লেখক নরেন্দ্র মোদী   (2) _______________________________________   অনুবাদ মল্লিকা মুখার্জী _______________________________________   14 এমন মানুষ   যেথায় বলা উচিত সেথায় থাকে চুপ আবার বলে যখন ...

સ્વપ્ન માં એક ક્રાંતિકારી સાથે મુલાકાત થઇ હતી
by Atit Shah

સ્વપ્ન માં એક ક્રાંતિકારી સાથે મુલાકાત થઇ હતી! A poem on patriotism -આઝાદી ના શહીદો ના બલિદાન ની સરખામણીએ તુચ્છ કહી શકાય એવી , પણ ખરેખર દિલ થી રચેલી આ નાનકડી ...

મારો કાવ્ય ઝરૂખો ભાગ - 01
by Hiren Manharlal Vora

કવિતા 1ઝરૂખો...નાનામોટા સૌને વહાલો ઝરૂખોખુલ્લી આંખે સ્વપ્નો દેખાડે ઝરૂખોપવન ની મિંઠી લહેરો લાવે ઝરૂખોભીની માટીની સોડમ આપે ઝરૂખોસૂર્યોદય ના દર્શન થાય ઝરૂખેસૂર્યાસ્ત નો નજારો જોવા મળે ઝરૂખેમીઠા તાપની મજા ...

নয়ন যে ধন্য - 1
by Mallika Mukherjee

নয়ন যে ধন্য লেখক নরেন্দ্র মোদী (1) _______________________________________ অনুবাদ মল্লিকা মুখার্জী _______________________________________ ভূমিকা প্রতি বছর সেপ্টেম্বের মাসে আমাদের কার্যালয়ে ‘হিন্দি একপক্ষ’ অনুষ্ঠান আয়োজন করা হয়। ২০১৪ সালে বরিষ্ঠ নিরীক্ষা ...

उन्हें सूर्य के संघर्षों का कोई क्या महत्व समझाएं
by कृष्ण विहारी लाल पांडेय

 केबीएल पांडे के गीत संधि पत्र  अंधकार के साथ जिन्होंने संधि पत्र लिखिए खुशी से उन्हें सूर्य के संघर्षों का कोई क्या महत्व समझाएं मेले संदर्भों पर जीवित यह ...

લાગણીનું અમીઝરણું
by Dhaval

કેમ છે...અમને તો એમ કે સઘળું હેમ-ખેમ છે,પણ એતો અમારો ક્યાંક વ્હેમ છે!ચારે બાજુથી અજવાળું ભાસે છે,પછી ભીતરમાં આ અંધારું કેમ છે!ચેહરા પર સ્મિત તો આવે ને જાય,પણ આ ...

विज्ञापन की महिला
by padma sharma

विज्ञापन की महिला    चेहरे पर खुशी आँखों में उत्साह मेकअप की कई पर्तों में ढँकी सजी-सँवरी बाहर से हँसती हुई अन्दर से गमगीन पर खिली हुई दीखती हैं   ...

सारांश
by Bhumika

   आप सबने मेरे पहले ग़ज़ल संग्रह "प्रयास" को प्रेमसे पढ़ा इस के लिए आप सबका तहे दिल से शुक्रिया।   "सारांश" ये गज़लें सारांश है मेरे जीवन के कुछ ...

मे और मेरे अह्सास - 18
by Darshita Babubhai Shah

मे और मेरे अह्सास 18 छोड़कर जाने वालो का इन्तजार नहीं करते हैं l  सच्ची मुहब्बत करने वाले कभी नहीं जाते हैं ll ********************************************************* कही कोई करता होगा मेरा ...

खाली मन
by my star kid

"जिंदगी रंगीन होनी चाहिए,ब्लैक एंड व्हाइट तो टीवी भी होते हैं।जिंदगी खुशनुमा होनी चाहिए,गमगीन तो मातम हुआ करते हैं।आज कल घरों में डाइनिंग टेबल तो है,लेकिन साथ में खाना ...

पीढ़ी की पीड़ा बादामी
by padma sharma

  मुझे हतप्रभ छोड बादामी तो एक झटके से बाहर निकल गई लेकिन मैं उसके शब्दों के अर्थ खोजने लगी थी। उसकी बातें दुगने बेग से मेरे विचारों पर ...

લોકડાઉન - કોવિડ સમયનો કાવ્યસંગ્રહ
by Atit Shah

લોકડાઉન માં લખાયેલો એક એવો કાવ્યસંગ્રહ,જે છેવટ સુધી જકડી રાખશે અને આ કપરા સમયમાં માનવી નાં સંઘર્ષ, ભાવનાઓ ને તાદ્દશ વર્ણવે છે

వేచి ఉంది
by Darshita Babubhai Shah

వేచి ఉంది ప్రజలు వేచి ఉండరు తప్ప. నిజమైన ప్రేమ ఎప్పుడూ ఉండదు ************************************************** ******* ఎవరో నా కోసం ఎక్కడో వేచి ఉంటారు. గుండె ఆలోచించడం ఆగిపోయింది ************************************************** ******* పగటిపూట విశ్రాంత

காத்திருக்கிறது
by Darshita Babubhai Shah

காத்திருக்கிறது தவிர மக்கள் காத்திருக்க வேண்டாம். உண்மையான காதல் ஒருபோதும் போவதில்லை ************************************************** ******* யாரோ எங்காவது எனக்காகக் காத்திருப்பார்கள். இதயம் சிந்திப்பதை நிறுத்திவிட்டது **********************************

स्त्री सशक्तिकरण
by padma sharma

कहानी मॉल   रह-रहकर बच्चे का चेहरा उसकी आँखों के सामने आ रहा था। कैसे वह दुपट्टे को पकड़कर उससे रुकने का आग्रह कर रहा था। उम्र ही क्या ...

കാത്തിരിക്കുന്നു
by Darshita Babubhai Shah

കാത്തിരിക്കുന്നു അല്ലാതെ ആളുകൾ കാത്തിരിക്കില്ല. യഥാർത്ഥ സ്നേഹം ഒരിക്കലും പോകില്ല ************************************************** ******* ആരെങ്കിലും എന്നെ എവിടെയെങ്കിലും കാത്തിരിക്കും. ഹൃദയം ചിന്തിക്കുന്നത് നിർത്തി **************************************

सिर्फ तुम.. - 4
by Sarita Sharma

सिर्फ तुम-4खत्म हो जाते हैं कुछ रिस्ते यूँही,बेइंतहा मोहब्बत के बाद भी,और साथ में खत्म हो जाती है ज़िन्दगी,जो जी रही होती है हममें..और रह जाती है, एक उदासी ...

অপেক্ষা
by Darshita Babubhai Shah

অপেক্ষা মানুষ বাদে অপেক্ষা করে না। সত্যিকারের ভালবাসা কখনই যায় না ************************************************ ******* কেউ কোথাও আমার জন্য অপেক্ষা করবে। হৃদয় ভাবনা বন্ধ করে দিয়েছে ************************************************ ******* না দিনে বিশ

Straight from the heart - 2
by Ambaliya Anjali

1."Strangers can become best friends,Just as easy as,Best friends can become strangers".2.Is it don't know the story,Then shut up!!3."Some people will hurt you alottt,And they will act like,You hurt ...