Novels and Stories Download Free PDF

You are welcome to the world of inspiring, thrilling and motivating stories written in your own language by the young and aspiring authors on Matrubharti. You will get a life time experience of falling in love with stories.


Languages
Categories
Featured Books
  • એક ષડયંત્ર.... - ભાગ 42

    (સિયાના મનમાં ગિલ્ટ થાય છે કે તે તેના મમ્મી પપ્પા અને ઘરના બધાથી વાત છુપાવી રહી...

  • स्वयंवधू - 8

    उसने मुझे पूल के अंत तक धकेल दिया।"बस वही कह जो मैं पूछा जाएँ!", वह अभद्र थी। उस...

  • एक तरफा प्यार... - 2

    क्योंकि अब तो मुझे भी ये लग रहा था की कुछ दिनों बाद कॉलेज बंद हो जाएगा सभी की छु...

  • શ્રી તુલસીકૃત રામાયણ - ભાગ 1

    વર્ણમાળાના વર્ણો, તેનાથી થતા શબ્દો, તેના અર્થો, અને એ અર્થોમાંથી ઉત્પન્ન થતાં અન...

  • हमे तुमसे मोहब्बत है

    1. हां मुझे इश्क़ है...सुनो...तुम समझोगे नहीं लेकिन,फिर भी बता दूं तुम्हे ,कि हा...

  • Shadow Of The Packs - 1

    इस कहानी की शुरुवात होती है एक घनी अंधेरी रात से, जहाँ एक आदमी बड़ी तेजी से जंगल...

  • डेविल सीईओ की मोहब्बत - भाग 5

    वही अरु और जानवी भी हिमानी की ऐसी हालत देख हसने लगती हैं और वही अरु कुछ देर तक ह...

  • સમી સાંજના સાથી...

    " મમ્મી ક્યાં છે ? ત્યાં નથી તો ક્યાં ગયા છે.?તમે લોકો આટલું ધ્યાન નથી રાખતા ? ત...

  • द सिक्स्थ सेंस... - 27

    सुहासी को रोते देख राजवीर को इतना बुरा फील हुआ कि भावनाओं में बहकर उसने सुहासी स...

  • શ્રાપિત પ્રેમ - 10

    આજે રવિવાર હતો એટલે રાધા પાસે કરવા માટે કંઈ વિશેષ ન હતું. બાકીના કામ કર્યા બાદ ત...

सन्यासी By Saroj Verma

कभी कभी इन्सान अपने जीवन से विरक्त होकर इस सांसारिक जीवन से सन्यास लेकर सन्यासी बन जाता है, लेकिन क्या वो सच में इस संसार के चक्रव्यूह से निकल पाता है,शायद नहीं! क्योंकि सांसारिक ज...

Read Free

मला स्पेस हवी पर्व १ By Meenakshi Vaidya

मागील भागात आपण बघीतलं की नेहा सुधीरला मला स्पेस हवी आहे हे सांगते सुधीरला धक्का बसतो. ऋषी आल्यामुळे दोघांचं बोलणं अर्धवट राहतं.या भागात बघू काय होईल.

किती तरी वेळ सुधीर आपल्याच...

Read Free

गुलकंद By श्रुत कीर्ति अग्रवाल

मैं, एक लेखिका, श्रुत कीर्ति अग्रवाल, आज पहली बार आपके साथ अपनी रचनाओं के माध्यम से नहीं, स्वयं अपने-आप को माध्यम बना आपके समक्ष हूँ। अभी तक मुझे लगता था कि अगर मैं अपनी सारी बातें...

Read Free

તારી પીડાનો હું અનુભવી By Dada Bhagwan

બહાર ખૂબ ઉકળાટ હતો. ગરમીમાંથી છુટકારો મળે અને મેઘરાજાની મહેર વરસે એવી આશ દરેક મનુષ્યમાં જ નહીં પણ મૂંગા પશુઓમાં પણ દેખાતી હતી. વાદળ ઘેરાયેલા હતા. બફારાથી બધા કંટાળેલા હતા. હા, હું...

Read Free

સીમાંકન By મૃગતૃષ્ણા mrigtrushna"

આ રચના સંપૂર્ણ કાલ્પનિક તથા મૌલિક છે જેનો કોઈ વ્યક્તિ વિશેષ કે ઘટના સાથે સીધો સંબંધ નથી.
**********************

તા. ૧૬મી ઑગસ્ટ ૨૦૨૨

આજે મન કાબૂમાં નથી. વારંવાર ખંખેરવા છતાં...

Read Free

सर्कस By Madhavi Marathe

हम लोग हमेशा सर्कस से जुडे हुए लोगों के जीवन के बारे में, जानने के लिए बहुत उत्सुक रहते है। उनका खानाबदोशजीवन, मंच पर अभिनय, साहसिक खेल, जानवरों की दुनिया, रोज की तालियाँ, लेकिन जि...

Read Free

बिग ब्रदर By अजय भारद्वाज

सूरजपुर छोटा से एक गाँव जहा गोपाल अपनी पत्नी सितादेवी दो बेटो विजय और संजय दो बेटियों रिया और गरिमा के साथ रहता है परिवार की सारी जिमेदारी गोपाल के कन्धों पर है गोपाल चाहता है उसके...

Read Free

कंचन मृग By Dr. Suryapal Singh

स्कन्द पुराण में बुन्देलखण्ड का नाम राज्य के रूप में जुझौती उपलब्घ होता है। इसमें 42000 गाँव सम्मिलित थे। हेन सांग ने इसे चि-चि-टो कहा है। कनिंघम का मत है कि चि-चि-टो जुझौती ही है।...

Read Free

वह आखिरी पल By Ratna Pandey

90 वर्ष की उम्र पार कर चुकी कावेरी अम्मा अब तक तो एकदम टनकी थीं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से हृदय की धड़कनों में थोड़ी मंदी आ गई थी इसलिए उनका शरीर अब वैसा साथ नहीं निभा पा रहा था जैस...

Read Free

સવાઈ માતા By Alpa Bhatt Purohit

મેઘનાબહેન આજે સવારથી ક્યારેક રસોડામાં તો ક્યારેક બેઠકરૂમમાં ઝડપભેર આવ-જા કરતાં હતાં. દીકરો નિખિલ પપ્પા સમીરભાઈને ઈશારા કરી પૂછી રહ્યો હતો, 'આ મમ્મીને આજે શું થયું છે?' અને...

Read Free

सन्यासी By Saroj Verma

कभी कभी इन्सान अपने जीवन से विरक्त होकर इस सांसारिक जीवन से सन्यास लेकर सन्यासी बन जाता है, लेकिन क्या वो सच में इस संसार के चक्रव्यूह से निकल पाता है,शायद नहीं! क्योंकि सांसारिक ज...

Read Free

मला स्पेस हवी पर्व १ By Meenakshi Vaidya

मागील भागात आपण बघीतलं की नेहा सुधीरला मला स्पेस हवी आहे हे सांगते सुधीरला धक्का बसतो. ऋषी आल्यामुळे दोघांचं बोलणं अर्धवट राहतं.या भागात बघू काय होईल.

किती तरी वेळ सुधीर आपल्याच...

Read Free

गुलकंद By श्रुत कीर्ति अग्रवाल

मैं, एक लेखिका, श्रुत कीर्ति अग्रवाल, आज पहली बार आपके साथ अपनी रचनाओं के माध्यम से नहीं, स्वयं अपने-आप को माध्यम बना आपके समक्ष हूँ। अभी तक मुझे लगता था कि अगर मैं अपनी सारी बातें...

Read Free

તારી પીડાનો હું અનુભવી By Dada Bhagwan

બહાર ખૂબ ઉકળાટ હતો. ગરમીમાંથી છુટકારો મળે અને મેઘરાજાની મહેર વરસે એવી આશ દરેક મનુષ્યમાં જ નહીં પણ મૂંગા પશુઓમાં પણ દેખાતી હતી. વાદળ ઘેરાયેલા હતા. બફારાથી બધા કંટાળેલા હતા. હા, હું...

Read Free

સીમાંકન By મૃગતૃષ્ણા mrigtrushna"

આ રચના સંપૂર્ણ કાલ્પનિક તથા મૌલિક છે જેનો કોઈ વ્યક્તિ વિશેષ કે ઘટના સાથે સીધો સંબંધ નથી.
**********************

તા. ૧૬મી ઑગસ્ટ ૨૦૨૨

આજે મન કાબૂમાં નથી. વારંવાર ખંખેરવા છતાં...

Read Free

सर्कस By Madhavi Marathe

हम लोग हमेशा सर्कस से जुडे हुए लोगों के जीवन के बारे में, जानने के लिए बहुत उत्सुक रहते है। उनका खानाबदोशजीवन, मंच पर अभिनय, साहसिक खेल, जानवरों की दुनिया, रोज की तालियाँ, लेकिन जि...

Read Free

बिग ब्रदर By अजय भारद्वाज

सूरजपुर छोटा से एक गाँव जहा गोपाल अपनी पत्नी सितादेवी दो बेटो विजय और संजय दो बेटियों रिया और गरिमा के साथ रहता है परिवार की सारी जिमेदारी गोपाल के कन्धों पर है गोपाल चाहता है उसके...

Read Free

कंचन मृग By Dr. Suryapal Singh

स्कन्द पुराण में बुन्देलखण्ड का नाम राज्य के रूप में जुझौती उपलब्घ होता है। इसमें 42000 गाँव सम्मिलित थे। हेन सांग ने इसे चि-चि-टो कहा है। कनिंघम का मत है कि चि-चि-टो जुझौती ही है।...

Read Free

वह आखिरी पल By Ratna Pandey

90 वर्ष की उम्र पार कर चुकी कावेरी अम्मा अब तक तो एकदम टनकी थीं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से हृदय की धड़कनों में थोड़ी मंदी आ गई थी इसलिए उनका शरीर अब वैसा साथ नहीं निभा पा रहा था जैस...

Read Free

સવાઈ માતા By Alpa Bhatt Purohit

મેઘનાબહેન આજે સવારથી ક્યારેક રસોડામાં તો ક્યારેક બેઠકરૂમમાં ઝડપભેર આવ-જા કરતાં હતાં. દીકરો નિખિલ પપ્પા સમીરભાઈને ઈશારા કરી પૂછી રહ્યો હતો, 'આ મમ્મીને આજે શું થયું છે?' અને...

Read Free