किसी के लिए हू मैं आसान हिन्दी सी तो किसी के लिए जटिल गणित का सवाल हू मैं ॥ कभी हूं मैं खुद में खोई खोई तो कभी खुली किताब हूं‌ मैं॥