मै वो हु जो अकेले मे गुनगुनाता हु, जोरदार शोर के बिच चील्लाता हु, खुदसे बाते करता हू और उसी पे हसता हु, नए खयालात है पर उन्हे आजमाने से डरता हू. बहोत कुछ है पर कुछ भी नही. बस इतना है कि मै मै हु.

    • 364
    • 570
    • (12)
    • 967
    • (12)
    • 709
    • 680
    • 915
    • 998
    • 658
    • (18)
    • 978
    • (18)
    • 1.5k