मेरा नाम सीमा बत्रा है। मुझे कहानियाँ, उपन्यास पढने और लिखने का शौक है।बचपन से ही किस्से कहानियाँ कहने का शौक रहा है। तुरंत छोटी छोटी कहानियाँ बना कर सुनाने का हुनर मेरे छोटे भाई ने पहचाना और उसने हमेशा लिखने के लिए प्रेरित किया। भाई से मिले प्रोत्साहन से ही मैं पिछले 4 सालों से निरंतर लिख रही हूँ। 2-3 किताबों के साथ कुछ पत्रिकाओं में कहानियाँ छप चुकी हैं.....ये सब भाई की वजह से ही संभव हुआ है....