Best Hindi Stories read and download PDF for free

स्वर्ण मुद्रा और बिजनेसमैन - भाग 7
by Shakti Singh Negi
  • Matrubharti Just Launched

सुना है बिहार के कुछ भागो में बाहुबली लोग लड़कों को जबरदस्ती पकड़ लेते हैं और उनसे जबरदस्ती अपनी लड़कियों की शादी कर देते हैं.    मुझे तो यह बलात्कार ...

बेपनाह - 6
by Seema Saxena
  • Matrubharti Just Launched

6 यूं ही तो कोई बेवफा नहीं होता कोई न कोई मजबूरिया रही होगी ! शुभी ने सोचा। “शुभी यार,मुझे माफ तो कर दो, तेरा गुनहगार हूँ मैं ! ...

हारा हुआ आदमी (भाग 39)
by किशनलाल शर्मा
  • Matrubharti Just Launched

"आप?"आवाज को सुनकार देवेन चोंका था।निशा उसकी पत्नी की मम्मी माया उसके बिस्तर में?न जाने कब वह उसके बिस्तर पर आ गयी थी।उसने कभी स्वप्न मे भी नही सोचा ...

गुनाहों का देवता - 24
by Dharmveer Bharti
  • Matrubharti Just Launched

भाग 24 चन्दर ने विचित्र हृदय-हीन तर्क को सुना और आश्चर्य से बुआ की ओर देखने लगा।....बुआजी बकती जा रही थीं- ''अब कहते हैं कि बिनती को पढ़उबै! ब्याह ...

टापुओं पर पिकनिक - 52
by Prabodh Kumar Govil
  • Matrubharti Just Launched

ट्रेनिंग के दौरान आगोश की जापानी लड़के तेन के साथ अच्छी दोस्ती हो गई। अब अक्सर वो दोनों साथ ही दिखाई देते। हॉस्टल में भी रात को दोनों का साथ ...

मेरी भैरवी - 1
by निखिल ठाकुर
  • Matrubharti Just Launched

             1.भैरव पहाड़ी की यात्रा ---------------------------------------------  विराजनाथ तंत्र के गुप्त रहस्य की खोज में हिमालय के गुप्त क्षेत्रों की यात्रा कर रहा था और ...

ईश्‍वर लीला विज्ञान - 2 - अनन्‍तराम गुप्‍त
by ramgopal bhavuk
  • Matrubharti Just Launched

                       ईश्‍वर लीला विज्ञान 2                                        अनन्‍तराम गुप्‍त कवि ईश्‍वर की अनूठी कारीगरी पर मुग्‍ध हैं, और आकाश, अग्नि, पवन, जल एवं पृथ्‍वी के पांच पुराने तत्‍वों का वर्णन ...

विशाल छाया - 13
by Ibne Safi
  • Matrubharti Just Launched

(13) “कितने ट्रेनिंग सेंटर है?”विनोद ने बात काट कर पूछा।  “तीन...” रोबी ने कहा –”और तीनों नगर की बाहरी सीमा पर है। मैं उनकी प्रेसिडेंट हूं। मेरा यह काम ...

इश्क - एक नशा - 2
by Krishna Kaveri K.K.
  • 213

इश्क - एक नशा पार्ट - 2विनय - सर मैं अन्दर आ सकता हूँ?अनिरूद्ध - यस कमिंग।मिस्टर विनय आपके लिए एक काम है।विनय - कौन सा काम सर?अनिरूद्ध - कल ...

इंटरनेट वाला लव - 25
by Mehul Pasaya
  • 111

हा अगर अब और देर हुए तो मजबूरन ये कदम उठाना पडेगा कसम सेअरे नही नही भाई इसकी नोब्बत नही आयेगी चलो मे रेडी हो गया हू अब चलो ...

इश्क - 1
by om prakash Jain
  • 303

वेदांत बीस बरस में बहुत तरक्की कर लिया है ।फ़िल्म निर्माता और उपन्यास कार लेखक भी है।बंगले के लान में मैना पक्षी के जोड़े को देखते ही रहा जाता ...

तक़दीर का खेल - 1
by Aarushi Varma
  • 270

मेहता परिवार, सभी विक्रम और नील के आने की राह देख रहे हैं दोनों बहुत समय बाद वापस आ रहे हैं सभी बहुत खुश है उन दोनों की अचीवमेंट ...

मिड डे मील - 16 (The End)
by Swatigrover
  • 147

हरिहर शालिनी का इंतज़ार कर रहा था, कहीं बहनजी, किसी मुसीबत में न फँस गयी हों। वहाँ नहर का पानी शांत था। तभी उसमें हलचल हुई। और शालिनी बाहर ...

Secret LOVE
by shivani
  • 360

रात के अंधेरो के बिच , एक आलिशान कमरे में सजी धुंदली सी yellow lights पूरे कमरे को रोशन कर रही है | तन्वी एक बेड से classic style ...

अवसान की बेला में - भाग ५
by Rajesh Maheshwari
  • 111

            36.  उत्तराधिकारी मुंबई में एक प्रसिद्ध उद्योगपति जो कि कई कारखानों के मालिक थे, अपने उत्तराधिकारी का चयन करना चाहते थे। उनकी तीन ...

यार तुणे क्या किया - 2 - अंतिम भाग
by Datta Jaunjat
  • 153

काहाणी शुरु करते हे पिछले अध्याय मे हमणे देखा की दिपक को समज आता हैं आकाश गलत नहीं था श्रावणी गलत थी तो अब हम देखेगे आगे क्या होवा ...

लारा - 2 - (एक प्रेम कहानी )
by रामानुज दरिया
  • 357

Behind the scenes love story                     (Part 2) पहले पार्ट में दिखाया गया कि सोमा किस तरह गलत फहमी का शिकार हो ...

मोतीबाई--(एक तवायफ़ माँ की कहानी)--भाग(२)
by Saroj Verma
  • 339

कमरें में बंद महुआ दिनभर रोती रहीं,शाम होने को आई लेकिन मधुबनी ने दरवाजा नहीं खोला,रात भी हो गई और रात को मधुबनी ने महुआ को ना खाना दिया और ...

नैनं छिन्दति शस्त्राणि - 21
by Pranava Bharti
  • 150

21 “समय बिताने के लिए करना है कुछ काम, शुरू करो अंताक्षरी लेकर प्रभु का नाम | ” गाड़ी में अंताक्षरी शुरू हो गई | नई-पुरानी फिल्मों के गीत ...

पहले कदम का उजाला - 10
by सीमा जैन 'भारत'
  • 201

मेरा दिल*** रोली की बीमारी, डॉक्टर देव से मिलना इन सबमें इतनी उलझ गए थी कि मन कुछ अजीब से सपने देखने लगा था। बालू के घर, पानी पर ...

अनचाहा रिश्ता - ( सच की शुरुवात_१) 29
by Veena
  • 426

DJ की आवाज़ हर तरफ गूंज रही थी। तभी पंडितजीने कहा " ये विवाह संपन्न हुआ।" ये सुन अजय, मीरा और उनके दोस्तों ने एक दूसरे को मुबारक बात ...

समय की नब्ज पहिचानों - 2
by बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 117

                                    समय की नब्ज पहिचानों2  काव्य संकलन- 2                                                                          समर्पण- समय के वे सभी हस्ताक्षर,         जिन्होने समय की नब्ज को,                भली भाँति परखा,उन्हीं-