Best Hindi Stories read and download PDF for free

व्योमवार्ता - महोबा
by व्योमेश

#किताबें मेरी दोस्तव्योमवार्ता/आल्हा कथानक का प्रामाणिक इतिहास: डॉ० सुधा चौहान राज की पुस्तक महोबा, आल्हा ऊदल की महागाथा             अप्रैल 2019 से हर माह कम ...

भदूकड़ा - 1
by vandana A dubey Verified icon

  जिज्जी….. हमें अपने पास बुला लो…” बस ये एक वाक्य कहते-कहते ही कुंती की आवाज़ भर्रा गयी थी. और इस भर्राई आवाज़ ने सुमित्रा जी को विचलित कर ...

बगावत दिल की
by Shobhana Shyam

एक तरफ दिल है एक तरफ दिमाग किसकी बात मानेगी दिव्या ......

सत्या - 18
by KAMAL KANT LAL

सत्या 18 देशी शराब के ठेके के बाहर औरतों की भीड़ खड़ी शोर कर रही थी. अधिकांश के हाथों में लाठियाँ थीं, जिसे वे बार-बार ज़मीन पर पटक कर ...

स्ट्रीट डांसर 3D - फिल्म रिव्यू - ये नाच क्या रंग लाएगा..?
by Mayur Patel Verified icon
  • (7)
  • 91

  साल 2006 में होलिवुड में एक फिल्म रिलिज हुई थीं- ‘स्टेप अप’. चेनिंग टेटुम स्टारर उस फिल्म में स्ट्रीट डान्सिंग करके स्टार बनने की कहानी थी. फिल्म इतनी ...

वर्चुअल गर्लफ्रेंड
by r k lal Verified icon
  • (2)
  • 33

"वर्चुअल गर्लफ्रेंड" आर0 के0 लाल               दिल्ली से चेन्नई जाने वाली तमिलनाडु एक्सप्रेस के थर्ड एसी कोच के एक कंपार्टमेंट में बीच वाली बर्थ पर एक लड़की अपनी ...

स्टॉकर - 17
by Ashish Kumar Trivedi Verified icon
  • (3)
  • 45

                       स्टॉकर                         (17)एसपी गुरुनूर अब तक अंकित, मेघना ...

आशा की किरण...
by Shaimee oza Lafj Verified icon
  • 4

आशा की किरण.......       जीवन एक किताब है,हर एक पन्नो मे पहेलीयाँ जीसे सुलझाने में पुरी उम्र बीत जाती है।जींदगी का हर एक मोड हमको कुछ न कुछ ...

ले देख
by Neelam Kulshreshtha Verified icon
  • 6

ले देख नीलम कुलश्रेष्ठ मटमैली सह्रदयी पहाड़ियों पर से कैब गुज़रती जा रही थी। कभी मैदान सा आ जाता, कभी सर्पीली चढ़ाई शुरू हो जाती. मम्मी तो सापूतारा के ...

जीवन चक्र
by Rajesh Maheshwari Verified icon
  • 9

जीवन चक्र    म.प्र. के सुप्रसिद्ध शिशु रोग विषेषज्ञ डा. कंवर किशन कौल (86 वर्ष) मूलतः काश्मीर के निवासी है। वे मेडिकल कालेज जबलपुर में शिशु रोग विभाग के ...

इस दश्‍त में एक शहर था - 6
by Amitabh Mishra
  • 9

इस दश्‍त में एक शहर था अमिताभ मिश्र (6) हम वापस अपने कथा सूत्र को पकड़ते हैं। और विनायक भैया के कुछ पहलू जानने की कोशिश करते हैं। विनायक ...

कालबीज़ - 2
by Divyanshu Tripathi
  • (4)
  • 80

स्थान : दिल्ली पुलिस मुख्यालय आज दिल्ली पुलिस के मुख्यालय में सुबह से ही काफी गहमा गहमी थी। सुबह सुबह सामने आई उन 13 लोगों की  सनसनीखेज़ मौतों की ...

नारीयोत्तम नैना - 6
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (2)
  • 9

नारीयोत्तम नैना भाग-6 डोर बैल बज रही थी। सुप्रिया ने उठकर द्वार खोला। पिज्जा ब्वॉय द्वार पर पिज्जा लिये तैयार खड़ा था। सुप्रिया ने पिज्जा का पेमेंट किया। पिज्जा ...

अतीत से मुक्त
by Balanath Rai
  • (1)
  • 22

"जब तक हम अपने अतीत के बारे में सोचते रहेंगे तब तक हमारा वर्तमान भी अतीत बनता जाएगा इसलिए हमे अपने अतीत के बारे मे न सोचकर अपने  वर्तमान ...

देस बिराना - 11
by Suraj Prakash Verified icon
  • (1)
  • 8

देस बिराना किस्त ग्यारह गोल्डी के इस तरह अचानक चले जाने से मैं खाली-खाली सा महसूस करने लगा हूं। हर बार मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है कि ...

बेघर सच
by Sudha Om Dhingra
  • 11

बेघर सच सुधा ओम ढींगरा ''सच तो मैं जानता हूँ। वह सच मैं तुम से उगलवाना चाहता हूँ; जिसे तुम मुझ से छिपा रही हो।'' संजय बड़ी कठोरता से ...

सप्तरंगी - लघु कथा
by Nish
  • 15

कौन ?"मिस गुजरात कॉन्टेस्ट" गुड इवनिंग एंड वेलकम में आपकी होस्ट शैलजा आपका स्वागत करती हूँ , इस खूबसूरत शाम के इस खूबसूरत प्रोग्राम में , जहा पुरे गुजरात की ...

मुख़बिर - 21
by राज बोहरे
  • (2)
  • 26

मुख़बिर राजनारायण बोहरे (21) कृपाराम का पुश्तैनी गांव अगले दिन मैने किस्सा सुनाना शुरू किया कि एक बार मैने अजयराम के साथ जाकर कृपाराम का पुश्तैनी गांव देखना चाहा ...

निश्छल आत्मा की प्रेम पिपासा - 6
by Anandvardhan Ojha
  • (1)
  • 22

[निष्कम्प दीपक जलता रहा रात भर.... ] दूसरे दिन का दफ्तर का वक़्त मुश्किल से कटा। इतने-इतने प्रश्न, शंकाएं, जिज्ञासाएँ कि बस, राम कहिये ! मैं लगातार यही सोचता ...

माघ की काली रात - 1
by Bhupendra Dongriyal
  • (7)
  • 68

                       "माघ की काली रात"                               ...

एक जिंदगी - दो चाहतें - 30
by Dr Vinita Rahurikar
  • (7)
  • 63

एक जिंदगी - दो चाहतें विनीता राहुरीकर अध्याय-30 फिर परम ने कॉलबेल बजा दी। चाचा ने तुरंत ही दरवाजा खोला। वो शायद बड़ी व्यग्रता से उन दोनों की राह ...

समीक्षा - देह धरे को दण्ड- संपादक-सपना सिंह
by राजीव तनेजा
  • 29

अनछुए या फिर तथाकथित सामाजिक ताने बाने में वर्जित माने जाने वाले संबंधों से संबंधित विषयों पर जब भी कुछ लिखा गया होगा तो लेखक ने खुद को पहले ...

प्रेत के साथ इश्क - भाग - १०
by Jaydip bharoliya Verified icon
  • (12)
  • 135

"चल दिव्या में भी तुम्हारे साथ आती हूं।" यह कहकर विद्या ने दिव्या के साथ जाने की बात की। लेकिन विद्या की खुद के साथ आने की बात सुनकर ...

सुनो आएशा - 4
by Junaid Chaudhary Verified icon
  • (2)
  • 50

आयशा ने अपना हाथ आगे बढ़ा दिया।मेरे रिंग पहनाते ही उसने खुशी से मुझे हग कर लिया।।उसका यूं हग करना मेरे लिए सरप्राइज था।।उसका फूल सा जिस्म कुछ देर ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय १२. - १३
by DILIP UTTAM
  • 7

-----अध्याय १२."अब मन नहीं |"-----   जितनी भी स्त्रियों की आत्महत्याएं होती हैं, वह अधिकतर पुरुषों के उकसाने के कारण ही होती हैं या उनके सताने के कारण ही ...

सेकेण्ड इनिंग 
by Ashish Dalal
  • (9)
  • 87

अपनी सहेलियों से शादी के बाद की पहली रात के बारें में बहुत से किस्से सुन रखे थे । पुरूष के के लिए पहली रात यानि अपने पुरुषत्व को ...

इत्ती सी, छोटी सी माँ
by Annada patni
  • (4)
  • 85

इत्ती सी, छोटी सी माँ अन्नदा पाटनी            जैसे ही खिड़की खोली कि एक छोटे से बच्चे के रोने की आवाज़ आई । सोचा कोई बात नहीं , थोड़ी देर में चुप हो जायेगा। पास रखे शेल्फ़ से पुस्तक निकाली ।  मन को एकाग्र कर पढ़ने का प्रयास करने लगी पर बच्चे     के रोने क

मर्द
by Anil Makariya
  • (11)
  • 129

मर्द ------- --- --- आज हमेशा के मुकाबले ट्रेन में कम भीड़ थी । सुरेखा ने खाली जगह पर अपना ऑफिस बैग रखा और खुद बाजू में बैठ गई ...

कौन दिलों की जाने! - 8
by Lajpat Rai Garg Verified icon
  • (4)
  • 84

कौन दिलों की जाने! आठ सुबह की चाय का समय ही ऐसा समय था, जब रमेश और रानी कुछ समय इकट्ठे बैठते और बातचीत करते थे। लोहड़ी से तीन—चार ...

आत्महत्या
by Satender_tiwari_brokenwords
  • (10)
  • 84

रोहन office से घर आता है और काफी खुश था । आज नौकरी का पहला दिन था । घर आया तो खुश था और माँ ने पूछा , कैसा ...