Best Hindi Stories read and download PDF for free

जनाब सलीम लँगड़े और श्रीमती शीला देवी की जवानी - 1
by PANKAJ SUBEER

जनाब सलीम लँगड़े और श्रीमती शीला देवी की जवानी (कहानी पंकज सुबीर) (1) यह कहानी सुने जाने से पहले कुछ जानकारियों से अवगत होने की माँग करती है। उन ...

सरकारी भावना
by GOVT SR SEC SCHOOL MAHAROLI

 वह  अक्सर अपने कॉलेज जाते टाइम अपने मोटर साइकिल को मुख्या सड़क से ही ले जाता था. रास्ते में  उसका स्कूटर अचानक अपने आप ही रुक जाता था. सड़क ...

फिर से - 5
by Ambalika Sharma

5 आसुओं ने डायरी के पन्नो को भिगो दिया था| रिया ने डायरी बंद की और सिसक सिसक कर रोने लगी| मन का वो बाँध जैसे टूट गया हो| ...

कशिश - 22
by Seema Saxena Verified icon

कशिश सीमा असीम (22) लंच ब्रेक में खाने की मेज पर खाना लग गया था, खाने में दाल, चावल और आलू की मसाले वाली सब्जी व सलाद, रोटियाँ अभी ...

अगिन असनान - 3 - अंतिम भाग
by Jaishree Roy

अगिन असनान (3) रोज़ साँझ जोगी को धूले कपड़े थमाती, पान की गिलौरी साज कर देती, खोंट से पैसे निकाल कर हथेली पर धर जब जोगी नदी के पार ...

विवेक और 41 मिनिट - 19
by S Bhagyam Sharma Verified icon

विवेक और 41 मिनिट.......... तमिल लेखक राजेश कुमार हिन्दी अनुवादक एस. भाग्यम शर्मा संपादक रितु वर्मा अध्याय 19 पुलिस कंट्रोल रूम में उतावली व फुर्ती भरा माहौल था | ...

परियों का पेड़ - 4
by Arvind Kumar Sahu

परियों का पेड़ (4) परी की खोज में .........और जानते हो राजू ! हजारों वर्ष बाद भी हिमालय के ऊँचे पहाड़ों के बीच स्थित वह घाटी आज भी वैसे ...

साँझ का साथी
by Chaya Agarwal

कहानी -   साँझ का साथी-पापा, यह क्या किया आपने ? इतना बड़ा धोखा, वह भी अपने बच्चों के साथ क्यों किया आपने ऐसा? आख़िर क्या कमी थी हमारे प्यार ...

क्लीन चिट- योगिता यादव
by राजीव तनेजा
  • 28

आज के दौर के सशक्त कहानीकारों के बारे में जब मैं सोचता हूँ तो ज़हन में आए नामों में एक नाम योगिता यादव जी का भी होता है। यूँ ...

भारतका सुपरहीरो - 6
by Sunil Bambhaniya
  • 12

 6.क्रिस्टल क्यूब का सूट फॉर्म अपडेट           डेढ़ साल के बाद.......                     मास्टर का घर सजा हुआ था ...

कुबेर - 7
by Hansa Deep
  • 44

कुबेर डॉ. हंसा दीप 7 दिन निकलते रहे। किशोर था वह। उसे अपनी सही उम्र पता नहीं थी, न ही अपना जन्म दिन पता था। पता भी कैसे होता ...

दरमियाना - 9
by Subhash Akhil
  • 30

दरमियाना भाग - ९ पापा भी इसी वजह से चले गये । उन्हें भी सबसे रोज कुछ न कुछ सुनना पड़ता था । घर आकर वो भी रोते थे, ...

राय साहब की चौथी बेटी - 19 - अंतिम भाग
by Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 180

राय साहब की चौथी बेटी प्रबोध कुमार गोविल 19 चाहे अम्मा अब किसी को पहचानें या नहीं पहचानें लेकिन कुछ दिन दोनों बेटियों के साथ रहने पर उनके चेहरे ...

लोरिया मैम
by Surendra Tandon
  • 38

अंग्रेज़ों ने एशिआई देशों में अपने धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए धर्म स्थलों का निर्माण, चंदे की रसीदों,डिब्बों, दान पात्रों एवं नजूल की मुफ़्त ज़मीनों पर कब्ज़ा करने जैसे ...

जी-मेल एक्सप्रेस - 13
by Alka Sinha
  • 30

जी-मेल एक्सप्रेस अलका सिन्हा 13. चुंबकीय आकर्षण कमाल है, इतनी सारी मस्ती के बाद भी क्वीना का रिजल्ट प्रभावित नहीं हुआ था। निकिता ने भी अपनी पुरानी परसेंटेज बनाए ...

लॉकडाउन
by Siraj Ansari
  • 306

आज इंटों के मकान में कैद हुआ तो ख्याल आया,क्यों चहकना भूल जाते हैं परिंदे पिंजरे की कैद में!!दोस्तों! आज कोरोना महामारी के तहत मुल्क के यह हालात हैं ...

वेताज बादशाह - नफ़रत भरी मासूम ख्वाहिश - 1
by Uday Veer
  • 34

मुंबई की झोपड़ पट्टी में जहां गरीब और कचरा बीनने वाले लोग रहते हैं, उसी झोपड़ पट्टी में जन्म् हुआ एक छोटे बच्चे का, उसका नाम उसकी मां ने ...

वी आर ईडियट्स
by Rochika Sharma
  • 62

वी आर ईडियट्स “पापा आप मुझे बस स्टॉप पर छोड़ दीजिये न प्लीज़” रोहन ने अपने शू लेस बांधे और लिफ्ट के बाहर खड़ा हो गया । “अरे ! ...

कौन दिलों की जाने! - 37
by Lajpat Rai Garg Verified icon
  • 82

कौन दिलों की जाने! सेंतीस रानी को फ्लैट में रहते हुए लगभग पाँच महीने हो गये थे। यहाँ रहने की समयावधि पूरी होने की अथवा कह लीजिये कि यहाँ ...

आदमखोर - 2 - अंतिम भाग
by Roop Singh Chandel
  • 60

आदमखोर (2) "लम्बरदार, आप----?" साश्चर्य उसने पूछा. "कौ---कौ----कौन---?" "मैं हूं सरजू, लम्बरदर!" "स----स----स---र---- जू----ग----ग----- जब-----ठण्ड ----है----. लगता है----प्राण निकल----जायेंगे." किसी प्रकार रमेसर सिंह कह पाये. सरजुआ चुप रहा. रमेसर ...

भदूकड़ा - 20
by vandana A dubey Verified icon
  • (11)
  • 130

किसी प्रकार गांववालों को समझा-बुझा के बाहर किया गया. बड़के दादा को दिल का दौरा पड़ा था, रात के किसी समय . ये अटैक इतना ज़बर्दस्त था, कि दादाजी ...

निर्जीव सजीव
by Rajesh Maheshwari Verified icon
  • 52

निर्जीव सजीव      जबलपुर के पास नर्मदा किनारे बसे रामपुर नामक गाँव में एक संपन्न किसान एवं मालगुजार ठाकुर हरिसिंह रहते थे। उन्हें बचपन से ही पेड़-पौधों एवं ...

आघात - 18
by Dr kavita Tyagi Verified icon
  • 78

आघात डॉ. कविता त्यागी 18 पूजा को ससुराल गये पाँच महीने बीत चुके थे। इस समयान्तराल में उसने मात्र दो पत्र अपनी कुशलता की सूचना देने के लिए भेजे ...

गौ-पशु
by Satish Sardana Kumar
  • 96

गौ-पशु(कहानी )            दिल्ली में जवान लड़के को कहीं भी मिल जाती हैं लड़कियाँ, इस तरह जिस तरह 99परसेंट मार्क्स वाले प्लस टू पास को ...

बहीखाता - 22
by Subhash Neerav Verified icon
  • 58

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 22 साहित्य का अखाड़ा जिस बात से मैं बहुत डरती थी, उससे बचाव हो गया। मुझे लगता था कि चंदन ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) -अध्याय-15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25
by DILIP UTTAM
  • 2

-----अध्याय १५."केवल नौकरानी नहीं |"-----   शादी बाद आज भी अधिकतर नारी को नौकरानी ही बनना पड़ता है क्यों? ------- हर स्त्री जो बीमार होते हुए बेटा या पति ...

मधुरिमा - भाग (२) - अंतिम भाग
by Saroj Verma
  • (15)
  • 358

मझे आते आते शाम हो चली थी, रास्ते भर खेतों से लौटते हुए लोग मिल रहे थे , डूबते सूरज की लालिमा भी फीकी पड़ती जा रही थी, चरवाहे भी ...

बंधन प्यार का..
by જીગર _અનામી રાઇટર
  • 301

बंधन प्यार का...... कुछ अलग ही फीलींग्स प्यार की...

निश्छल आत्मा की प्रेम-पिपासा... - 27
by Anandvardhan Ojha
  • 48

'बस, मैं तेरा अन्वेषक था, जनम-जनम का… 'दिन हांफते-दौड़ते थककर शाम की छाया में जा बैठा। हम दफ़्तर से लौटे--निःशब्द, अपने-अपने पैर घसीटते हुए। शाही ने चाय बनायी, हम ...

कर्म पथ पर - 5
by Ashish Kumar Trivedi Verified icon
  • 50

                        कर्म पथ पर                        Chapter 5लखनऊ में ...