Best Horror Stories stories in hindi read and download free PDF

विश्रान्ति - 6
by Arvind Kumar Sahu
  • 17

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) (बूढ़ा कह रहा था, "मैं हूँ ठाकुर मंगल सिंह")-5 मौसी को वह रहस्यमय साये ...

बंद तालों का बदला - 3
by Swatigrover
  • (14)
  • 207

पसीने से  लथपथ प्रखर जैसे ही बरामदे  में पहुँचा उसने देखा कि चार पाँच  लोग काली-पीली  शक्ल वाले लोग  बरामदे  में  घूम  रहे  है, वह  लड़की  भी  वहीं  थीं  ...

वसुंधरा गाँव - 2
by प्रेम पुत्र
  • (11)
  • 227

रेस्टोरेंट में घुसते ही इन्द्र और भानु देखते है। एक आदमी रेस्टोरेंट के मालिक से बेहस कर रहा था उनके बीच गरमा गर्मी इतनी अधिक हो गई थी कि ...

इश्क़ जुनून - 7
by Paresh Makwana
  • 175

         ''सुनो ये मरना नही चाहिए अगर ये मर गया तो में तुम सबको मार दूंगी''         तभी मेरा स्कूल का दोस्त भवानी वह ...

विश्रान्ति - 5
by Arvind Kumar Sahu
  • 155

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) (दुर्गा मौसी को आज रास्ते के इस वातावरण में पेड़ और पंछी भी बड़े ...

रोता प्रेत
by Ravi Sharma
  • (11)
  • 369

सबसे पहले  आप सभी  का धन्यवाद की आप ने मेरी सभी कहानियो को इतना पसंद किया .अगर कही कोई कमी लगे तो आप अपना प्रतिभावा जरूर दे comment  कर ...

भूतिया बंगला
by Lalit Raj
  • 369

चार दोस्तों जो जॉब के लिऐ शहर आते हैं और वहां ठहरने के लिऐ जगहा तलाशते हैं तो जहां उन्हें जॉब मिला उसी कम्पनी के मालिक ने अपने बंगले ...

ज्याँकों राँखें साईंयाँ.. भाग 2
by योगेश जोजारे
  • 281

क्यों किउस चमकती हुई बिजली में युवी ने जो देखा, उसकी एक झलक ही इतनी क्रूर , भयंकर,डरावनी थी. शायद यह आंखों का धोका या बुद्धि का भ्रम हों, ...

इश्क़ जुनून - 6
by Paresh Makwana
  • (11)
  • 270

          ''अरे बेटी घबरा क्यु रही हो में तुम्हे ये बताने आया हु की पिछली बार स्कूल में जो गाने की प्रतियोगिता हुई थी ना ...

मौत का जादू
by Anadi Subhanand
  • 357

इक़बाल ने नफ़ीस की कोठी के अंदर कदम रखा।अंदर का नज़ारा देखकर वो ठिठककर रुक गया। बैठक के बीचोंबीच साढ़े छह फुटा नफ़ीस ज़मीन पर दरी बिछा कर बैठा ...

विश्रान्ति - 4
by Arvind Kumar Sahu
  • 239

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) (उस रहस्यमय व्यक्ति की आहट से गाँव के कुत्ते व सियार भी अजीब से ...

कुलधरा गांव की खौफनाक रात
by Renu Jindal
  • (11)
  • 359

बात उस समय की है जब हमने गांव छोड़ा , मानो तकरीबन 15-20 साल पहले  की। तब मैं और मेरा भाई इतने छोटे थे कि सही से चल भी ...

विश्रान्ति - 3
by Arvind Kumar Sahu
  • 479

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) (दुर्गा मौसी मरीज देखने के लिये रात - बि- रात और दूर – दराज ...

वसुंधरा गाँव - 1
by प्रेम पुत्र
  • (23)
  • 645

एक 12 वर्ष का बालक डरा सहमा खुद को एक अंधेरे स्टोर रूम  बन्द करके बैठा है। उससे देख कर पता लगता है। वो किसी के भय से छुपा ...

क्या तुम वापस आ गयी ? पार्ट - २
by zeba praveen
  • 367

डॉ साहिल अपने अतीत में जाते हुए अपनी बातों को फिर से जारी करते हैं:- "मेरे लिए आलिया का अहसास होना ही काफ़ी था, मैं आत्माओ में विश्वाश करता ...

इश्क़ जुनून - 5
by Paresh Makwana
  • 448

         शामको में ओर माया इस्कॉन मोल के कॉफे एरिया में एक टेबल पर आमने सामने बैठे थे।          अपनी सवालभरी निगाहों से वो ...

बंद तालों का बदला - 2
by Swatigrover
  • (16)
  • 434

निशा   ने सारा  दिन शॉपिंग  की।  फ़िर  शाम  को  सारे दोस्त  वाघा  बॉर्डर पहुँचे  । देश  की सेना  को  देख  प्रखर  को अपने  पिता  की याद  आई । सभी  ...

वो आसमान से आती थी - 2
by Adil Uddin
  • 472

पिछले भाग में आप सबने देखा की,कबीर रात के अंधेरे में एक अजनबी लड़की के पीछे जाता है और उस लड़की को वह एक खाई में गिरते देखता है ...

विश्रान्ति - 2
by Arvind Kumar Sahu
  • 361

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) (...और तब, जमींदार के अत्याचारों से उपजी घृणा व जुगुप्सा भरी एक रहस्यमय कहानी)-1 ...

नीलांजना (थ्रिलर हॉरर कादम्बरी भाग-2)
by Praveen Kulkarni
  • 549

अमृता और नवीन को पेहले ही पिक्-अप् कर लिया था सुबोधने. कृति आके फ़्रंट् सीट् पर बैठ गयी, अब सिर्फ़ चरण बाक़ी रेह गया था। “प्राइमरी स्कूल् में भी मेरी ...

हॉंटेल होन्टेड - भाग - 5
by Prem Rathod
  • 587

दूसरे दिन सब लोग उसी जगह पर खड़े थे पिछली रात जो कुछ भी हुआ उसके बारे में किसी को कुछ भी पता नहीं चला। इंसान स्वार्थ और लालच ...

डर की वो रात
by Ravi Sharma
  • (12)
  • 1.3k

दोस्तों आज जो मे वाक्या आप से share करने जा रहा हु ये मेरे एक रिस्तेदार के साथ घटी हुई घटना  है. आगे की कहानी मे उनकी जुबानी आप ...

इश्क़ जुनून - 4
by Paresh Makwana
  • (12)
  • 459

           ''में सच बोल रहा हु, में तुमसे प्यार नही करता..''            इतना सुनते ही वो रोते हुवे वहां से उठकर चली गई..           इधर क्लास में मेरा मन ...

ज्याँकों राँखें साईंयाँ.. भाग 1
by योगेश जोजारे
  • (14)
  • 568

युवी केलेंडर की तारीख देखते हुवे."उस रात जो हुवा वह मरते दम तक याद रहेगा. पर उस रात न अमावस्या थी और नाही पूर्णिमा फिर भी यह घटना कैसे ...

विश्रान्ति - 1
by Arvind Kumar Sahu
  • 680

विश्रान्ति (‘रहस्य एक रात का’A NIGHT OF HORROR) अरविन्द कुमार ‘साहू’ विश्रान्ति (The horror night) मुख्य मार्ग पर सामने से किसी राजा के महल जैसी भव्य दिखने वाली उस ...

रास्ते की गुड़िया
by JYOTI PRAKASH RAI
  • (18)
  • 602

विजयदशमी का दिन था पूरे गांव और बाजार में चहल-पहल सा माहौल छाया हुआ था और घर को सजाने की तैयारियां चल रही थी। कि मानों प्रभु श्री रामचन्द्र ...

अपराध
by Rajesh Mewade
  • 547

सुनसान सड़क दूर-दूर तक फैला अंधेरा , कटीली झाड़ियां और ऊंचे-ऊंचे पेड़। चोर-डाकूऔ के लिए तो यह बेहद ही उपयुक्त स्थान है। लेकिन यहां दूर-दूर तक कोई गांव नहीं, ...

बंद तालों का बदला: - 1
by Swatigrover
  • (20)
  • 902

पाँचो  दोस्त  अमृतसर  स्टेशन पर  उतर  रात  साढ़े  दस  बजे  उतर  चुके  थे । पेपर  के  बाद  हुई  दो  चार  छुट्टियाँ  का  मज़ा  हमेशा  ही  किसी  ऐसे  ही  कोई  ...

इश्क़ जुनून - 3
by Paresh Makwana
  • (13)
  • 556

        ये गाना सुनकर मानो मेरा सर घूमने लगा।  कुछ धुंधले धुंधले से दर्शय मानो मेरी आँखों के सामने दिखाई देने लगे।         उन ...

वो आसमान से आती थी - 1
by Adil Uddin
  • (12)
  • 769

रात के ढाई बज रहे थे,हवाएं थोड़ी तेज़ चलने लगी थीं,कमरे की खिड़कियां बोहत शोर कर रही थीं,इसी वजह से कबीर को नींद भी नही आ रही थी काफी ...