Best Women Focused stories in hindi read and download free PDF

एक रिश्ता ऐसा भी (भाग १)
by Ashish Dalal

एक रिश्ता ऐसा भी (भाग १) स्कूल प्रांगण में प्रवेश करने का एक मात्र यही रास्ता था । पिछली रात हुई जोरदार बारिश की वजह से पूरा रास्ता टूट ...

अभिव्यक्ति - दहलीज के पार
by Yatendra Tomar
  • 96

एक आम भारतीय गृहिणी की तरह रजनी भी अपने घर को पूरी जिम्मेदारी के साथ संभालतीं है हर दिन सुबह सूरज से पहले उठ कर देर रात तक घर ...

यह मेरा हक़ है
by किशनलाल शर्मा
  • 396

"भाभी ----इरफान  हांफता हुआ दौड़ा दौड़ा आया था,"अनवर ज़िंदा है।""कौन अनवर?""अनवर को नही जानती।भूल गई।तुम्हारा पहला शौहर।""भाभी से मजाक कर रहे हो।"सलमा जानती थी उसका देवर इरफान मजाकिया है ...

दुल्हन....
by Saroj Verma
  • 729

रिमझिम के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे,वो बस में बैठी यही सोच रही थी कि काश आज उसके पास पंख होते तो वो  उड़कर अपने ननिहाल ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 9
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 423

स्तुति के आसूं भरे चेहरे पर, सुनीता जी अपने आसुओं से भरी आंखों में प्यार भरकर , उसे प्यार से देखती है और फिर उसे गले से लगा लेती ...

आखिर क्यों ?
by Sunita Agarwal
  • 624

पंद्रह लोगों का भरा पूरा परिवार था, जिस घर में सीमा ब्याहकर आई थी।सुबह पांच बजे से चूल्हा जलता तो दिन के दो बजे तक जलता ही रहता और ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 8
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 387

आखिरी लाइन कहकर सुनीता जी फिर शांत हो जाती हैं , तो स्तुति उन्हें आगे बताने के लिए कहती है । वो अपने आसूं साफ कर आगे कहती हैं ...

मुक्ति
by Rohit Kishore
  • 459

भाग 1.) सुहाना सफर दिल्ली की सर्दियों की सुहानी सुबह की बात ही कुछ और है,आपको लेकर चलते है एक मल्टी नेशनल कंपनी Comsoft प्राइवेट लिमिटेड में जिसके CEO है ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 7
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 480

सुनीता जी अपने आखों के किनारे साफ करती हैं और फिर स्तुति से बताती हैं । सुनीता जी - तुम्हारी दोस्त ( आभा ) छः महीने की थी बेटा ...

नारी सशक्तिकरण
by नाथूराम जाट
  • 516

मेरे कहने से कुछ बदल जाता तो मैं सब कुछ सबसे पहले कहती की, नारी अब वो नहीं रही की जो सब सह लेती थी बिना कुछ कहे। आज ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 6
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 696

आभा कुछ देर और मानव , परिधि और उनके बच्चों से बात करती है, फिर फोन कट करके , खाना खा कर अपने स्कूल का कुछ जरूरी काम कर ...

लड़की का हक़
by Neelima Sharrma Nivia
  • 642

क्या  कहूँ ?अब  तो थक गयी हूँ मैं  .  जिस घर से ब्याही जाती हैं ना लड़कियाँ  वहाँ से डोली उठते ही घर पराया हो जाता हैं  । जिस ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 5
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 846

शाम के करीब सात बज रहे थे और आभा का फोन बार - बार रिंग होकर कट रहा था । आभा गहरी नींद में थी । लेकिन फिर फोन ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 4
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 744

अब दौर शुरू हुआ बेहिसाब बेज्जती का , आभा और उसके परिवार की । लड़के की मां आभा के पास आयी, और जैसे ही अपना हाथ उसकी ओर बढ़ाने ...

आन्या का ससुराल - 4
by Riya Jaiswal
  • 1.1k

आन्या मांजी के साथ बेटी लेकर हॉस्पिटल से घर आई। उसे और उसकी बच्ची को नहलाकर उनके रहने के लिए अलग कमरे में व्यवस्था कराया गया। डिलीवरी का पहला ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 3
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 1k

आभा अपने स्कूल का सारा जरूरी काम खत्म कर घर की ओर चल दी । उसने अपने घर के दरवाजे पर कदम रखा ही था , कि उसे अपने ...

हौसला
by Neelima Kumar
  • 771

    इतिहास में गुज़रे कुछ पल ऐसे होते हैं जिन्हें बिना किसी वज़ह के आप कभी साझा नहीं करना चाहते और मेरे इन पलों को वज़ह दी थी ...

नई सुबह
by Sunita Agarwal
  • 1.5k

आज रोहन और उनकी पत्नी रागिनी सुबह से ही बहुत उत्साहित थे।हो भी क्यों न आज पूरे 12 बर्ष बाद उनका पोता रितिक जो घर आने वाला था।रागिनी सुबह ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 2
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 780

     आभा......( जीवन की अग्निपरीक्षा ) ( भाग - 2 ) बेसब्री से खुद को ताक रहे स्टूडेंट्स को देखते हुए प्रिंसिपल मैम बोलीं । प्रिंसिपल मैम - ...

निहारिका
by Sunita Agarwal
  • 1.5k

अनामिका ने जल्दी जल्दी घर के सारे काम निबटाये और बच्चों को स्कूल और पति अमित को आफिस के लिये रवाना कर, खुद भी स्कूल के लिये तैयार होने ...

आराधना...
by निशा शर्मा
  • 1k

माँ बुआ आ गईं ! अरे आज तो बिटिया बहुत सयानी लग रही है । हाँ दीदी बिटिया को सयानी होते हुए समय थोड़े ही लगता है ! अरे ! ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 1
by ARUANDHATEE GARG मीठी
  • 1.2k

     आभा ....( जीवन की अग्निपरीक्षा ) ( भाग - 1 ) एक लड़की हाथों में हिस्ट्री की किताब लिए , एक आर्ट सब्जेक्ट की क्लास की ओर ...

आन्या का ससुराल - 3
by Riya Jaiswal
  • 1.2k

सर पर आंचल लेना आन्या को बिल्कुल पसंद नहीं था। एक तो सारी संभालनी ही मुश्किल थी उसके लिए, ऊपर से घर के कामों की जिम्मेदारी। अब आंचल संभाले ...

भूख--एक औरत की व्यथा
by किशनलाल शर्मा
  • 1.6k

दुखखाट पर लेटी लीला      बड़ बड़ाई।किस बात का?तारा  को छोड़ देने  का।गलत।भला ऐसा क्या      था तारा मेंेे,  जो वह उसके लिए दुखी हो।क्या     तारा  ...

आन्या का ससुराल - 2
by Riya Jaiswal
  • 1.2k

सुबह के नौ बज रहे थे। हररोज की तरह आज भी सुमित तैयार होकर काम पर चला गया। ट्रांसपोर्ट बिजनेस था उसका, भाई के साथ। तीन भाई थे जिनमें ...

सवाल है नाक का
by Sunita Bishnolia
  • 1k

             सवाल है नाक का   "सुबह के साढ़े - पाँच बज गए, महारानी की नींद नहीं खुली अब तक।"   माँ ने जोर-जोर  से बड़बड़ाते हुए कहा तो पास वाले कमरे में सो ...

सिर्फ धागे का बंधन नही
by Jyoti Prajapati
  • 906

स्कूल से आकर बैठी ही थी कि बड़े भैया का फोन आ गया। अचानक उनका फोन आया देख खुशी भी हुई और आश्चर्य भी। क्योंकि बड़े भैया ना के ...

किरायेदार
by श्वेता कर्ण
  • 1k

              किरायेदार मैं तुम्हारे जबाब का इन्तजार करूँगा निशा! " लेकिन याद रहे जबाब मुझे हाँ में ही चाहिए। " अधिकार से जबाब मांगा गया। निशा को याद आ ...

आन्या का ससुराल
by Riya Jaiswal
  • 2.2k

रात का समय था। यही कोई ग्यारह बज रहे होंगे। अब आन्या को सोने जाना था। उसने अपने कमरे की तरफ कदम बढ़ाए ही थे कि अचानक उसे एक ...

मम्मी सुनो न
by Neelima Sharrma Nivia
  • 957

अमूमन  आजकल की नई शादीशुदा लड़कियाँ अपने ससुराल में आने वाली मुश्किलों को अपनी माँ से जरूर बांटती हैं कि मम्मी आपको पता है आज ये हुआ सास ने ये कहा नंद ...