Best humour stories in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

जो घर फूंके अपना - 26 - कम खर्च बालानशीन
by Arunendra Nath Verma
  • 41

जो घर फूंके अपना 26 कम खर्च बालानशीन रूस में हमारे ठहरने का प्रबंध पांचसितारा होटलों में होता था और अलग से दैनिक भत्ता मिलता था जो खाने के ...

મોટાપો
by Sanjay Thakker
  • 160

મોટાપો !!!વહેલી સવારે ચાના કપ સાથે હાથમાં લીધેલો બ્રેડ-બટર જામનો ટુકડો મોંઢામાં મૂકું તે પહેલાં તો નજર પેટ ઉપર ગઈ. જાણે મોટરનું ટાયર ગળી ગયો હોઉં તેવું ગોળમટોળ પેટ, ...

खतरनाक बच्चा
by paresh barai
  • 102

लालू : होम वर्क करा दो पापा, लोक डाउन में पूरा दिन टीवी देखते रहते हो | कुछ काम आ जाओ मेरे ! पापा : अपनी माँ को बोलो ...

છબીલોક - ૪
by ARUN AMBER GONDHALI
  • 167

(પ્રકરણ – ૪) ચોથાં ફ્લોરવાળા રાજનભાઈએ બુમ મારી. એ...મારી પિંકીની ફ્રેમ કોરી છે, સવારથી... હજુ પિંકી દેખાતી નથી ! નીચે બધાં સાથે ઉભાં રહેલ દેવબાબુના કાને શબ્દો પડ્યાં અને ...

जो घर फूंके अपना - 25 - विदेश यात्रा : अपने अपने टोटके, अपना अपना जुगाड़
by Arunendra Nath Verma
  • 99

जो घर फूंके अपना 25 विदेश यात्रा : अपने अपने टोटके, अपना अपना जुगाड़ आज की तरह ही उस ज़माने में भी केवल मंत्रियों और उनके चमचों का ही ...

ग्लोबल विलेज
by bhagirath
  • 108

ग्लोबल विलेज                                                            ...

કોરોનાની કકળાટ હાસ્યની હળવાશ - ૧
by Ashok Upadhyay
  • 332

લૉકડાઉન બાદ ફિલ્મ બનાવવા નીકળેલા કબીર ખાન – સલમાન ખાનને કેવો અનુભવ થયો?કોરોનાની કકળાટ વચ્ચે હાસ્યની હળવાશ પરાણે પરિવારજનો સાથે રહેવાની ફરજ પાડતા લૉકડાઉનથી ઘણા કંટાળ્યા છે તો ઘણાનો મગજનો ...

અભણ અને ભણેલા વચ્ચે માથાકૂટ થઈ
by sachin patel
  • (17)
  • 330

લોકડાઉનની તાત્કાલિક અસરથી ઘરમાં કેશ પૂરું થઈ ગયું, એટલે 65 વર્ષના કાઠિયાવાડી બાપાને ATM કાર્ડનો પહેલીવાર ઉપયોગ કરવાનું સદભાગ્ય પ્રાપ્ત થયું. દસેક વર્ષથી ATM કાર્ડ તિજોરીના ખૂણામાં ધૂળ ખાતું ...

जो घर फूंके अपना - 24 - फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी
by Arunendra Nath Verma
  • 159

जो घर फूंके अपना 24 फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी आपको अपने साथ रूस की यात्रा करने का निमंत्रण तो मैंने दे दिया पर मेरी पीढी के लिये विदेश ...

હસતા નહીં હો! - ભાગ ૧
by શબ્દ શબ્દનો સર્જનહાર
  • (12)
  • 407

    શીર્ષક:શરદી મારી બહેનપણી જોકે આમ તો મને કોઈ બહુ કે થોડું કંઈપણ પૂછતું જ નથી પરંતુ કોઈનો મગજ ફરી જાય ને મને એવું પૂછી બેસે કે ,"તમારી બહેનપણી ...

जो घर फूंके अपना - 23 - बार्बर बनाम नाई
by Arunendra Nath Verma
  • 222

जो घर फूंके अपना 23 बार्बर बनाम नाई पिताजी के सर पर रुपहले बालों की जगह केवल उनकी धूमिल सी याद को देखकर मेरी तुरत प्रतिक्रिया तो यही थी ...

कॉफ़ी विद कोरोना
by Mahaveer Prasad
  • 247

मेरे प्यारे-प्यारे पाठकों! आपका स्वागत है! मैं हूँ आपका अपना मुरारी लाल। क्या!ऽऽऽ आप मुझे नहीं जानते। कोई बात नहीं। १३५ करोड़ लोगों में सब सबको जानें यह जरूरी ...

शैतान बच्चा
by paresh barai
  • 288

बाला : दादी नमस्ते, कैसी हो सब ठीक ? दादी : यह शैतान साधू कब से बन गया ? आज सूरज पश्चिम से उगा है क्या ? बाला : ...

છબીલોક - ૩
by ARUN AMBER GONDHALI
  • 233

(પ્રકરણ – ૩) કોરોનાની ગતિવિધિઓથી વાકેફ ‘અતિથી રેસિડેન્સી’ ના રહેવાસીઓએ સુઝબુઝથી વોચમેનને એનાં ઘરે મોકલી દીધો હતો.  સવારે નવ વાગે દેવબાબુ વોચમેનની કેબીન પાસે ઉભાં રહી કંઇક બોલી રહ્યાં ...

दो बाल्टी पानी - 13
by Sarvesh Saxena
  • (17)
  • 351

करीब घंटे भर बाद मिश्राइन और वर्माइन का नंबर आया, दोनों ने अपनी-अपनी बाल्टी भरी और मुंह लटकाए घर की ओर चली आईं |मिश्राइन(घूंघट को नीचे की ओर खिंचते ...

ये कप किसने तोड़ा?
by Huriya siddiqui
  • 454

हम सब बहोत आम है बेहद आम दरअसल कहा जाए तो हम आम जनता हैकभी कभी तो आम खाने के भी लाले पड़ जाते हैं अरे बात बजट की ...

मेंढकी
by Deepak sharma
  • 513

मेंढकी निम्मो उस दिन मालकिन की रिहाइश से लौटी तो सिर पर एक पोटली लिए थी, “मजदूरी के बदले आज कपास माँग लायी हूँ...” इधर इस इलाके में कपास ...

सस्पेन्सची कॉमेडी
by Pralhad K Dudhal
  • 288

 एका सस्पेन्सची कॉमेडी...      एका एकांकिका स्पर्धेसाठी आमच्या गृपने एक रहस्यकथेवर बेतलेली एकांकिका बसवायची ठरवली.राज्य पातळीवर होणाऱ्या या स्पर्धेत भाग घ्यायची खूप दिवसाची आमच्या हौशी नाट्य संस्थेची इच्छा या ...

जो घर फूंके अपना - 22 - टेलर तो टेलर, बार्बर भी सुभान अल्लाह !
by Arunendra Nath Verma
  • 223

जो घर फूंके अपना 22 टेलर तो टेलर, बार्बर भी सुभान अल्लाह ! पालम वाले टेलर मास्टर जी का तो धंधा ही फिटिंग का था. लगे हाथ मुझे भी ...

तशरीफ का टोकरा घायल हो गया.
by Sunil Jadhav
  • 409

तशरीफ का टोकरा घायल हो गया...{व्यंग्य} डॉ.सुनील गुलाबसिंग जाधव महाराणा प्रताप हाउसिंग सोसाइटी, हनुमान गढ़ कमान के सामने, नांदेड़ -४३१६०५ मो.९४०५३८४६७२ “सुनो जी, घर का सारा राशन खत्म हो ...

कहानी सब्जीपुर की
by राज कुमार कांदु
  • 273

 सब्जीपुर के युवराज ‘ आलू चंद ‘ की विवाह योग्य उम्र होते ही राज्य के सभी मंत्री , दरबारी उनके लिए सुयोग्य नायिका की खोज में लग गए ।सब्जी ...

अड़ोस-पड़ोस
by Chhavi Nigam
  • 284

  अड़ोस-पड़ोसछवि निगम नाइट बल्ब की रहस्यमयी रौशनी कमरे में पसरी हुई थी। मच्छरों का ऑर्केस्ट्रा बीथोवन से होड़ ले रहा था। 20 साल 2 महीने 2 दिन की ...

क्या आपके टूथपेस्ट में नमक है
by Saroj Verma
  • 338

अचानक से कोई खूबसूरत सी लड़की आप के सामने पृकट हो जाए, और पूछे । कि आपके toothpaste में नमक है , दुनिया का आज तक का सबसे गंभीर ...

जो घर फूंके अपना - 21 - कई कई अवतार बापों के
by Arunendra Nath Verma
  • 341

जो घर फूंके अपना 21 कई कई अवतार बापों के बापों की इस चर्चा से याद आया कि जीवन के हर क्षेत्र में लोगों को कोई न कोई मिल ...

जो घर फूंके अपना - 20 - बाप रे बाप !
by Arunendra Nath Verma
  • 338

जो घर फूंके अपना 20 बाप रे बाप ! लखनऊ में नाका हिंडोला थाने के थानेदार साहब मेरे लिए नितांत अपिरिचित थे और अपिरिचितों से गाली सुनने में कैसी ...

છબીલોક - 2
by ARUN AMBER GONDHALI
  • 542

(પ્રકરણ – ૨) બહુ જ લેટેસ્ટ ડિઝાઈનનું એપાર્ટમેન્ટ, નામ - ‘અતિથી રેસિડન્સી’. મુખ્ય રસ્તાની બાજુમાં પણ રસ્તાથી દુર. આજુબાજુમાં બીજાં બિલ્ડીંગ નહી. જાણે સોશિયલ ડિસ્ટન્સ પાળતી બિલ્ડીંગ. આજે ખબર ...

हटेली चुड़ैल
by paresh barai
  • (13)
  • 420

दिनेश : ए बाबूजी वो अपनें मोहल्ल्ले में कोई नया किरायेदार रहने आया लगता है ! आप नें पता किया कुछ ? बाबूजी : धीरज धर बेटा, उसकी कोई ...

दो बाल्टी पानी - 12
by Sarvesh Saxena
  • (12)
  • 468

" अरे जीजी.. ओ जीजी.. " वर्माइन ने मिश्राइन को पुकारा | मिश्राइन दरवाजा खोलते हुए - "हां.. वर्माइन कहो"? वर्माइन - "अरे जीजी… कहें का, पानी भरने जा रहे हैं ...

जो घर फूंके अपना - 19 - झूठ बोले कौवा काटे
by Arunendra Nath Verma
  • 261

जो घर फूंके अपना 19 झूठ बोले कौवा काटे त्रिवेणी के ठंढे पानी में डुबकी लगाने से जैसे जैसे घबडाहट कम होती गयी पछतावा वैसे वैसे बढ़ता गया. क्या ...

जो घर फूंके अपना - 18 - आग के दरिया से संगम के शीतल पानी तक
by Arunendra Nath Verma
  • 387

जो घर फूंके अपना 18 आग के दरिया से संगम के शीतल पानी तक ट्रेन चल पड़ी तो मैं भी कुछ मिनटों में किसी तरह उठ कर खड़ा हो ...