Travel Stories free PDF Download | Matrubharti

आमची मुम्बई - 43
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 1

मुम्बई की अपनी अलग संस्कृति है मुम्बई में हर शख़्स ज़िन्दादिल है वो ज़िन्दग़ी को हर हाल में हँसते-हँसते जीता है चाहे भीड़ भरी ...

એબસન્ટ માઈન્ડ - 3
by Sarthi M Sagar
  • (2)
  • 53

સમસ્યાને કઈ રીતે જાવી આગળ વધવુ કે અટકી જવું એ તમારા અભિગમ પર આધાર રાખે છે જે સમસ્યાનાં સારાં કે ખરાબ પરીણામો નક્કી કરે છે. પ્રથમ ગ્રાસે મક્ષિકા. જાકે પહેલેથી જ ...

रिजर्वेशन की टिकिट
by Ajay Kumar Awasthi
  • (2)
  • 51

     कुछ साल पहले हम लोग समूह में अमरनाथ जी की यात्रा के लिए जम्मू जा रहे थे हम सबका रिजर्वेशन था सो अपनी अपनी बर्थ में हम ...

आमची मुम्बई - 42
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 41

शायद यही वजह है कि मुम्बई की जीवन रेखा कही जाने वाली लोकल ट्रेन चौबीसों घंटे में से कभी भी खाली नहीं मिलती प्रत्येक प्रहर अलग-अलग तरह ...

माथेरान आणि आठवणी
by हेमांगी सावंत
  • (1)
  • 36

पाऊस म्हटला जी आठवणी आल्याच. पाऊस म्हणजे आनंद. पाऊस म्हणजे जगणे. किती ही बोललं पावसाबद्दल तरीही ते कमीच. बाहेर पाऊस कोसळायला लागला की आठवणी ताज्या होऊन जातात. तशीच एक ...

એબસન્ટ માઈન્ડ - 2
by Sarthi M Sagar
  • (5)
  • 87

વાસ્તવિકતા કરતાં કાલ્પનિક ભય વધુ ડરાવે છે. પહેલી વખત અમદાવાદથી બહાર નીકળ્યો એ વખતે કેટલાંય કાલ્પનિક ભય હતા, પણ આજે એ નથી. જા કે આજે પણ નવી જગ્યાએ નવા ...

દિલ્હી એનસીઆર નજીક મુલાકાત માટે 10 સુંદર અને ઉડાઉ ફાર્મ
by Shila Gehlot
  • (1)
  • 38

રજાઓ માત્ર ખૂણાની રાહ જોતા, એક સંપૂર્ણ વિકેન્ડ ગેટવેની શોધમાં ઘણા ગણો વધારો થયો છે. જો તમે શહેરી જીવન અને કંટાળાજનક રૂટીન અસ્તિત્વના ગ્રાઇન્ડથી કંટાળી ગયા છો, તો તમારા ...

आमची मुम्बई - 41
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 20

मुम्बई कभी सोती नहीं उसकी नाइटलाइफ़ के बारे में यही कहा जाता है मुझे याद आ रहाहै ‘मुम्बई रात की बाहों में’ एथेना, लश, ...

एक दिन रेल के सफर में
by Upasna Siag
  • (3)
  • 72

मैं एक व्यवसायी या कहिये एक सफल व्यवसायी रहा हूँ। अपने जीवन में बहुत रुपया, नाम, इज्ज़त कमाई है। लेकिन कभी बाहर की दुनिया का भ्रमण ही नहीं कर पाया। अब ...

आमची मुम्बई - 40
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 59

एक ज़माने में मुम्बई में पारदर्शी मीठे पानी की पाँच प्रमुख नदियाँ बहती थीं उल्हास नदी जहाँ चायना क्रीक में फिल्म वालों के आकर्षण का केन्द्र रही ...

એબસન્ટ માઈન્ડ - 1
by Sarthi M Sagar
  • (6)
  • 155

ટ્રેકીંગ કરવા માટે બુકીંગ કરાવ્યું હતું. દરમિયાન એડવેન્ચર ઘરેથી જ શરૂ કરવાનું વિચાર્યું એટલે અમદાવાદથી જમ્મુ-કાશ્મીરની રોડ ટ્રીપ કરવાનું નકકી કર્યું, એકલા… એકઝેટલી કઈ તારીખ હતી યાદ નથી પણ યુકેથી ...

आमची मुम्बई - 39
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 36

चर्चगेट से विरार तक जाने वाली लोकल ट्रेन मुम्बई की सबसे रोमाँचक यात्रा कराती है इस पर पीक आवर्स में चढ़ना तो दूर दरवाज़े पर लटकने भी ...

आमची मुम्बई - 38
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 43

जनवरी लगते ही मुम्बई का आकाश और खाड़ियों के किनारे खूबसूरत गुलाबीपंखों वाले समुद्री पक्षी फ्लेमिंगो से भर जाता है मुम्बई में खारे समुद्री पानी की कई ...

रेल का सफर
by Satender_tiwari_brokenwords
  • (7)
  • 97

ये कहानी काल्पनिक हैं और इसके किरदार भी काल्पनिक हैं।किरदार -              दो अजनबी दोस्त रिया और अजय।।कहानी ????             पढ़कर ...

आमची मुम्बई - 37
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 34

प्रकृति ने न केवल सुरम्य तटों की समृद्धि मुम्बई कोदी है बल्कि अरब महासागर के साथ-साथचली गई समुद्र रेखा के सामानांतर पश्चिमी घाट माथेरान, खंडाला, लोनावला, अम्बोली, एम्बीवैली और ...

મારું વ્હાલું જૂનાગઢ
by Tatixa Ravaliya
  • (8)
  • 137

  સોરઠ ધરા જગજુની....       હાલ...જોને ગરવો ઈ ગઢ ગિરનાર...          એ જેના હાવજ... હાવજડાં  હૈંજળ પીયે....               હાલરે..ન્યાનાં નમણાં નર ને નાર.....          હા, એજ સોહામણી સોરઠ ધરાની વાત છે જ્યાં ...

एडवर्ड
by MILIND KALPANA RAJARAM DHANAWADE
  • (2)
  • 60

एडवर्ड गुडघ्या एवढ्या चिखलतना वाट काढत होता...काळोख होण्याच्या आत त्याला.. त्या जंगलात आसरा शोधायचा होता...फक्त एकट्यासाठी नाही तर ५ ते ६ माणसांसाठी... तेवढ्यातच वादळी पाऊस सुरु झाला...विजा कडाडत होत्या ...

आमची मुम्बई - 36
by Santosh Srivastav verified
  • (0)
  • 41

जब भी वर्ली सी लिंक से गुज़रती हूँ लगता है समँदर मेरा हमसफ़र है नजाने मुझसे कहाँ-कहाँ की सैर करा देता है न जाने कितने ...

आमची मुम्बई - 35
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 42

बांद्रा रिक्लेमेशन से वर्ली की आधा घंटे की दूरी आठ मिनट से भी कम समय में!! सचमुच यकीन नहीं होता, मगर ये संभव कर दिखाया है बाँद्रा वर्ली सी ...

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 16 - लास्ट पार्ट
by Ranju Bhatia
  • (2)
  • 55

यदि बिरयानी नाम सुनते ही आपको जिस शहर का नाम ध्यान में आता है हैदराबाद तो यह इसके अलावा भी बहुत कुछ है इस शहर के बारे में जिसके ...

आमची मुम्बई - 34
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 49

वैसे तो मुम्बई जो किसी ज़माने में हरा भरा नदी, सरोवरऔर समँदर को अपने आगोश में समेटे पूरी दुनिया को आकर्षित करता था, अब विकास के जुनून में कंकरीट ...

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 15
by Ranju Bhatia
  • (5)
  • 29

दिल्ली की सुबह जब बारिश से शुरू होती है तो न जाने क्यों मुझे ” माण्डू” बहुत याद आता है । शायद इसलिए कि वहां की बारिश बहुत ही ...

आमची मुम्बई - 33
by Santosh Srivastav verified
  • (2)
  • 36

ब्राह्ममुहूर्त में यानी चार बजे से ही भूलेश्वर में फूलों से लदे ट्रक फूलों की दुकानों पर उँडलना शुरू हो जाते हैं हवाओं में भक्तों की आस्थाके ...

आमची मुम्बई - 32
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 52

मुम्बई में हर त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है होली, दीपवाली, ईद, क्रिसमस, गणेशोत्सव बाज़ारों की सजधज से ही पता लग जाते हैं रथयात्रा जुहू ...

मल्हारगड सासवड पुणे
by MILIND KALPANA RAJARAM DHANAWADE
  • (0)
  • 36

"मल्हारगड-(सासवड-पुणे)" घरच्या जबाबदाऱ्या...आमच्या पिल्लासांठी दिलेला वेळ... यात आम्हाला आमच्यासाठी वेळच देता आलं नाही...शेवटी प्रसाद च्या पुणे ट्रान्सफर चे निम्मित झाले आणि मग ठरले पुण्याला ट्रेकक करू...शेवटचा ट्रेकक जानेवारी १७ ...

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 14
by Ranju Bhatia
  • (2)
  • 37

महेश्वर इंदौर से सिर्फ ९० किलोमीटर की दूरी पर है, यह मध्य प्रदेश के खरगौन ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक नगर तथा प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह नर्मदा नदी ...

आमची मुम्बई - 31
by Santosh Srivastav verified
  • (1)
  • 46

गोरेगाँव पूर्व में एक बहुत बड़ालगभग १६ स्क्वेयरकिलोमीटर तक फैला हरा भरा इलाका है जिसे आरे कॉलोनी से जाना जाता है १९४९ में यहाँ मिल्ककॉलोनी बनी जिसमें ...

किल्ले दौलतमंगळ आणि भुलेश्वर मंदिर
by MILIND KALPANA RAJARAM DHANAWADE
  • (0)
  • 1.2k

किल्ले दौलतमंगळ आणि भुलेश्वर मंदिर          शनिवार दिनांक २३.०२.१९ सकाळी ४. ०० वाजता आमचा दिवस चालू झाला...जवळ जवळ १ वर्षांनी एका मित्राला भेटायला जायचे होते..स्थळ होते ...

सची का बस्ता
by Yayawargi (Divangi Joshi)
  • (5)
  • 73

सचि का बस्तामैं वेसे तो एक आम सा बस्ता हूँ पर खास तब बना जब मैं सचि का बस्ता बना…हा मैं ही हूँ सचि का बस्ता मैं ही सबसे ...

आमचा रायगड पाऊसातला
by MILIND KALPANA RAJARAM DHANAWADE
  • (1)
  • 35

"आमचा रायगड पाऊसातला " दिनांक : २९.०७. २०१२...एक पावसाळी रविवार... हा आमचा १६ ट्रेंक्क होता ...त्यापैकी फक्त कर्नाळा पावसातून केला होता..एकूण २. ३० ते ३. ०० तास चढाई होणारा ...