Lalpaan ki begam by Phanishwar Nath Renu in Hindi Short Stories PDF

लालपान की बेगम

by Phanishwar Nath Renu Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

लालपान की बेगम फणीश्वरनाथ रेणु 'क्यों बिरजू की माँ, नाच देखने नहीं जाएगी क्या?' बिरजू की माँ शकरकंद उबाल कर बैठी मन-ही-मन कुढ़ रही थी अपने आँगन में। सात साल का लड़का बिरजू शकरकंद के बदले तमाचे खा कर ...Read More