Best Short Stories stories in hindi read and download free PDF

एक नई दुनिया
by डॉ मीरारामनिवास वर्मा
  • 375

" एक नई दुनिया "          विजया की जिंदगी अचानक  एक अप्रत्याशित मोड़ पर आकर रुक गई।  पति की असामयिक मृत्यु उसकी हंसती खेलती जिंदगी को उजाड़ ...

चंद्रिका एक नन्हीं जादूगरनी - 1
by Pooja Singh
  • 177

ये कहानी शुरू होती हैं कंचनापुर से चंद्रिका को उसके भाई नीलेश ने एक गुप्त स्थान पर छुपा रखा है ताकि भावी जादूगरनी को कोई नुक़सान न पहुॅंचा सके।चंद्रिका ...

सौर पैनल अंततः आर्थिक दक्षता पर आ सकते हैं
by Shamad Ansari
  • 2.1k

सौर पैनल अंततः आर्थिक दक्षता पर आ सकते हैं     इस विशिष्ट घटना का अंतिम उदाहरण 70 के दशक की शुरुआत में स्पष्ट था, जब कच्चे तेल के ...

लाईब्रेरी की लव स्टोरी
by Ravi maharshi
  • 378

राज एक बिलकुल आवारा लड़का था उसे पढ़ाई से कोई मतलब नहीं था इसी साल वह फाइनल ईयर में फेल हुआ था और अपने कॉलेज में एक्स स्टूडेंट के ...

प्रभु दयालु है
by Pratap Singh
  • 312

"चल जल्दी उठ!""सोने दो न माँ!"देख खुशी भी तैयार हो गयी, चल उठ जल्दी!""नहीं! जल्दी उठ...चर्च जाना है।"इस बार रहने दो न माँ, अगले हफ्ते चलूंगा।""नहीं! तू जल्दी कर, ...

रिमझिम गिरे सावन
by Saroj Prajapati
  • 318

झुलसा देने वाली गर्मी के बाद आज बादल सुबह से ही अपने पूरे शबाब में झूम झूमकर बरस रहे थे। मानो लोगों की दुआओं को पूरी करने में वो ...

जीवन ऊट पटाँगा - 7 - आप ही का साला
by Neelam Kulshreshtha
  • 402

नीलम कुलश्रेष्ठ आदमी जिस जगह की मिट्टी से बना होता है वहीं के रिश्तेनाते उस में कहीं गहरे रचबस जाते हैं । न वह उसका पीछा छोड़ते हैं न ...

मेरी नजर से देखो - भाग 4 - समानता के अवसर या मौके का फायदा?
by Rajat Singhal
  • 396

टिंग टोंग... लगता है मजबूरदास आ गया। मैने मेरी पत्नी को दरवाजे खोलने को रूक्का दिया। मेरी पत्नी ने अपने भाई की आवभगत की, फिर मैने पुछा ओर आजकल ...

ताश का आशियाना - भाग 7
by R.J. Artan
  • 309

मुझे तब लगा वो अचानक से कन्फेशन से घबराई होंगी। जैसे 2 साल पहले मेरा हाल था उसी प्रकार उसका भी वही हाल था, पर जब वह 12वीं के ...

कुत्तों का सामान्य इतिहास
by Shamad Ansari
  • 1.9k

     *कुत्तों का सामान्य इतिहास* Writer - Shamad Ansari इस विचार में कोई विसंगति नहीं है कि इस दुनिया में मनुष्य के निवास के शुरुआती दौर में उसने ...

प्यार के वो पल
by डॉ मीरारामनिवास वर्मा
  • 480

"मानसिकता"        दीनदयाल का कद रातों रात बढ़ गया । बेटी जानकी सिविल सेवा में पास  हो गई । दीनदयाल की बेटी पुलिस अफसर बन गई। खबर ...

खोखली प्रगतिशीलता
by राज कुमार कांदु
  • 495

धनराज जी अपने बड़े सुपुत्र के लिए लड़की देखने आए हुए थे । मानसी को देखते ही उन्होंने उसे अपने बड़े बेटे हिमेश के लिए पसंद कर लिया  । ...

अंतिम इच्छा
by S Sinha
  • 660

कहानी --अंतिम इच्छा      ऊपरवाले से बड़ा कहानीकार तो कोई नहीं हो सकता है .किसकी कहानी कैसी होगी , कितनी लम्बी या छोटी , सुखान्त या दुखांत कब और ...

दोषी
by डॉ मीरारामनिवास वर्मा
  • 753

"दोषी"        जया पति के होते हुए अकेली थी।  बच्चों का पालन पोषण कर रही थी। पढ़ लिखकर बेटी अपने घर की हो गई। बेटा पढ़ रहा ...

‘अमृत-अणु’ की खोज
by Anand M Mishra
  • 351

कोरोना के कारण जिंदगी थोड़ी धीमी चलने लगी। सर्वत्र खामोशी छाई हुई है! अब प्रकृति से जनसामान्य जुड़ने की चेष्टा में है। सुबह प्रकृति सभी से चिड़िया की चहचहाहट ...

अपना घर
by Saroj Prajapati
  • 846

उर्मी संयुक्त परिवार में हुई थी। परिवार में जेठ जेठानी, सास ससुर व पति सुकेश । कुछ ही दिनों में उर्मी को अच्छे से पता चल गया कि घर ...

एक्स्ट्रा कमाई
by satish bhardwaj
  • 834

एक युवा का चयन अवर अभियंता (जे. इ.) के पद पर सिंचाई विभाग में हुआ। कुछ दिन बाद उनको पत्र आया कि नहर के किनारे वृक्षारोपण करवाइए। उन्होंने संबंधित ...

माटी से प्यार
by डॉ मीरारामनिवास वर्मा
  • 660

माटी से प्यार"                 भोलानाथ का जीवन माटी में रचा बसा सादगीभरा था। खेती-बाड़ी का काम पिता से विरासत में मिला था। भोलानाथ ...

जीवन ऊट पटाँगा - 6 - दो पाटों के बीच बतर्ज़ सैंडविच
by Neelam Kulshreshtha
  • 498

बीच वाले [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] बुआ ने अब की बार बोरिया बिस्तर हमारे यहाँ पटककर झंडा गाढ़ दिया कि उर्मि की शादी किये बिना यहां से नहीं टलेंगी। ...

पुराना हैंडपम्प...
by Saroj Verma
  • 564

बहुत सालों बाद अपने गांव जाने का मौका मिला,जो कि मेरी जन्मभूमि है,सोचा था कि गांव की सैर करते हुए खेतों में भी टहल लेंगे,हरे चने,हरे मटर और बेरों ...

अकबर और तानसेन कि कहानी (ओशो)
by Sonu dholiya
  • 627

मैंने सुना है, अकबर ने तानसेन को एक बार कहा कि तुम्हारा संगीत अपूर्व है। मैं सोच भी नहीं सकता कि इससे श्रेष्ठ संगीत कहीं हो सकता है। या ...

तीन देवियां
by S Sinha
  • 1k

                                                          ...

खत वाला PYAAR - 1
by Ek_Gunjati_AAWAZ
  • 621

             मे आज आपके सामने एक कहानी लेकर आई हुँ । आशा करती हुँ की, आपको मेरी यह कहानी पसंद आयेगी । तो शुरु ...

सुख के साथी
by Bhupendra Singh chauhan
  • 498

बोधू के पिता दीनू ने अपने 1 बीघे खेत मे अमरूद का बगीचा लगाया था।दीनू ने इन्हें बच्चों की तरह पाला था एक एक पौधे की रखवाली में उन्होंने ...

झरने की खुशबू....
by Saroj Verma
  • 687

मैं अपने ननिहाल घूमने के लिए गया था,पता चला कि गांव से बाहर एक झरना है जो कि बहुत ही खूबसूरत है, मैंने सोचा कि मुझे वहां जाना चाहिए ...

विश्वास की जीत़
by Ravi maharshi
  • 579

हेलो दोस्तों नमस्कार , आदाब , अभिनंदन , आभार आपने कहानियां तो बहुत सी सुनी होंगी और पढ़ी होंगी लेकिन आज जो मैं आपको कहानी बताने जा रहा हूं ...

संस्कृत वांग्मय में जीवन दर्शन - 2
by Dr Mrs Lalit Kishori Sharma
  • 249

संस्कारसंस्कार मानव के नव निर्माण की आध्यात्मिक योजना है । चरक ऋषि ने कहां है संस्कारों हि गुणाअंतर आधान, उच्यते अर्थात संस्कार पहले से विद्यमान दुर्गुणों को हटाकर उनके ...

जीवन ऊट पटाँगा - 5 - सांप...सांप..
by Neelam Kulshreshtha
  • 597

नीलम कुलश्रेष्ठ “सांप...सांप..” मलय चिल्लाता हुआ उठ कर बैठ गया और कांपने लगा । “कहाँ है?” प्रीति घबरा कर उठ बैठी । बिजली चली गई थी । छोटी बत्ती ...

आभासी दुनिया
by Darshita Babubhai Shah
  • 528

२१०० साल! एक आभासी दुनिया होगी। भविष्य की दुनिया में वैज्ञानिक, सामाजिक, राजनीतिक, व्यक्तिगत और हर दूसरे क्षेत्र में क्या परिवर्तन हुए हैं। एक काल्पनिक दुनिया होगी। लोग स्वप्निल ...

मैं माँ हूँ
by S Sinha
  • 951

   कहानी  :-  मैं माँ हूँ        शोभा अपने गाँव में पति और एकलौते बेटे के साथ खुशहाल ज़िन्दगी जी रही थी . अभी उसका बेटा चंदू दस ...