Pyar vyar - hir ve by Shubham Maheshwari in Hindi Poems PDF

प्यार व्यार - हीर वे

by Shubham Maheshwari Verified icon in Hindi Poems

क्या हम कभी बिछुडे? नही ना। क्या दिल कभी टूटे नही ना। जो साथ हो तेरा हो जाए ये जहान मेरा। हीर वे, हीर वेे क्यों हुए जुदा वे। हीर वे, हीर वे तू बेशकीमती कोहीनूर वे। हीर हीर ...Read More