Mannu ki vah ek raat - 2 by Pradeep Shrivastava in Hindi Love Stories PDF

मन्नू की वह एक रात - 2

by Pradeep Shrivastava Verified icon in Hindi Love Stories

‘बिब्बो मेरी शादी कैसे हुई यह तो तुम्हें याद ही होगा ? पैरों की तीन अंगुलिया कटी होने के चलते जब शादी होने में मुश्किल होने लगी तो बाबू जी परेशान हो उठे। ऊपर से दहेज की डिमांड उन्हें ...Read More