Majburi by Nirpendra Kumar Sharma in Hindi Women Focused PDF

मज़बूरी

by Nirpendra Kumar Sharma in Hindi Women Focused

"मज़बूरी"नन्ही रौनक गुब्बारे को देख कर मचल उठी, अम्मा अम्मा हमें भी गुब्बारा दिलाओ ना दिलाओ ना हम तो लेंगे वो लाल बाला, दिलाओ ना अम्मा।भइया कितने का है फुग्गा कांता ने गुब्बारे बाले से पूछा।एक रुपए का है ...Read More