Best women focused in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

औरतें रोती नहीं - 16
by Jayanti Ranganathan
  • 138

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 16 दगाबाज आईना वो दिन, वो शाम... मैं थरथराकर उठ गई। मेरा मोबाइल बज रहा था। थककर रुक गया। दो मिनट बाद मैसेज ...

खनकती चूड़ियाँ
by NISHA SHARMA ‘YATHARTH’
  • 214

अपने कपड़े उतारकर बिस्तर पर लेट जाओ और हाँ अपनी ये चूड़ियाँ उतार दो। बगल के कमरे में मेरी पत्नी सोयी है उसे बस पैरालाइसिस हुआ है,अभी मरी नहीं ...

नूरीन - 5
by Pradeep Shrivastava
  • (11)
  • 248

नूरीन - प्रदीप श्रीवास्तव भाग 5 अम्मी के दबाव में मैंने जो गुनाह किया है उसकी सजा अल्लाह जो देगा वो तो देगा ही। पुलिस उससे पहले ही हड्डी-पसली ...

પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર સીતા - 1
by Paru Desai
  • 228

                                                    પ્રેરણાદાયી નારી પાત્ર ...

फैसला - 1
by Sunita Agarwal
  • 230

आज अनन्या की फुफेरी बहिन शालिनी की शादी है।दुल्हन की पोशाक में सजी सँवरी शालिनी बेहद खूबसूरत लग रही है।अनन्या भी दौड़ दौड़कर घर के काम काज में अपनी ...

रिकामपण
by Vasanti Pharne
  • 150

#रिकामपण            "या या, खूप दिवसांनी येणं केलंत, खूप आनंद झाला  माधवराव तुम्हाला भेटून !!"....  मी माधवरावांना अगत्याने सोफ्यावर बसायला सांगितलं. माधवराव आमच्या ऑफिस मधील सिनियर ...

औरतें रोती नहीं - 15
by Jayanti Ranganathan
  • 252

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 15 भटकती नींदों के सहारे पद्मजा: फरवरी 2007 पहली आर ऑनी से मिली, तो लगा एकदम अनजाना चेहरा नहीं है। तीसेक साल का ...

নন্দিনীর গল্প (A Women Focused Story)
by Kalyan Ashis Sinha
  • 150

জ্যৈষ্ঠ মাসের শেষ সপ্তাহ। প্রচন্ড দাবদাহে সবার আই ঢাই অবস্থা। পাখার নিচ থেকে সরলেই ঘামে একেবারে চান করে যেতে হচ্ছে। এইরকম সময়ে আকাশে কালো মেঘ দেখলে কার না ভালো ...

Rebirth - Part 1
by Ratna Raidani
  • 296

Part 1 Even 3 months of hard work and dedication didn't help in much savings. Rent for the room, food and grocery expenses, and everyday commute fare for M.R.T. left ...

“ ગણિકા ”થોડા વિચારો ને દ્રષ્ટિકોણ બદલીએ...
by Mahesh Vegad
  • (15)
  • 430

“ ગણિકા ”થોડા વિચારો ને દ્રષ્ટિકોણ બદલીએ...                       આપણા સમાજમાં સારાને ખરાબ , ને ખરાબને સારું માનવાની ખુબ જ સારી ...

नूरीन - 4
by Pradeep Shrivastava
  • 292

नूरीन - प्रदीप श्रीवास्तव भाग 4 अंततः मुन्ने खां को हवालात में डाल दिया गया। अगले तीन दिन उनके हवालात में ही कटने वाले थे। क्योंकि अगले दिन किसी ...

ઋણાનુબંધ ભાગ ૨
by Megha Acharya
  • 122

એવું તો શું હતું એ સ્ક્રીનલોક પર ???એના પર હતો પ્રેમ અને એની પત્ની ના લગ્નો નો ફોટો...માહી ની આંખો માં આંસુ આવી ગયા અને એ ફરીથી ભાન ભૂલી ...

આશુમાં-ધી રીયલ મધર ઇન્ડિયા પાર્ટ-2
by Mushtaq Mohamed Kazi
  • 174

આશુમાં-ભાગ 1 માં આપણે જોયું કે આશુમાં ને કાસમ ભાઈ ના ઘરે કુલ આઠ સંતાન નો જન્મ થયો.કાસમ ભાઈ નો ટૂંકો પગાર, પ્રથમ સંતાન દીકરી, એ પણ પાછી પોલીયોગ્રસ્ત,અલબત્ત ...

अनाम रिश्ते
by Sudha Adesh
  • 252

अनाम रिश्ते कार्तिकेय को घर लौटने में निरंतर आवश्यकता से अधिक देरी होने पर न जाने क्यों, कुछ दिनों से करीना को अत्यंत क्रोध आने लगा था । उसके टोकने ...

औरतें रोती नहीं - 14
by Jayanti Ranganathan
  • 264

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 14 तुम्हारे आसमान से मेरी दुनिया दूर है सितम्बर 2004: मन्नू की बदलती दुनिया सब कुछ अचानक हुआ। मन्नू यूं अकेली घर से ...

और कुहासा छँट गया.....
by Varsha
  • 188

            .... ...... पापा....अब मैं वहाँ कभी नहीं जाऊँगी....!!!!पापा वो इंसान नहीं जल्लाद है....उसका परिवार भी उसके साथ है हर कदम.....उन्हें बहू नहीं सिर्फ ...

ભારતીય મૂળના પ્રથમ મહિલા અવકાશયાત્રી કલ્પના ચાવલાને સ્મરણાંજલિ
by Jagruti Vakil
  • (14)
  • 340

પ્રથમ અવકાશયાત્રી :કલ્પના ચાવલાને સ્મરણાંજલિ                ‘કઠોર પરિશ્રમનો કોઈ વિકલ્પ નથી’ ઉક્તિને પોતાના જીવનમાં ચરિતાર્થ કરી જનારા,અંતરીક્ષમાં યાત્રા કરનારા પ્રથમ ભારતીય મહિલા અવકાશયાત્રી કલ્પના ચાવલાનો જન્મ ૧ જુલાઈ ૧૯૬૧ના ...

लखनऊ की तवायफ
by Sudhir Kamal
  • 284

लखनऊ की तवायफ --“आदाब बजा लाता हूं बेगम साहिबा!” --“हूं……..साथ कौन जायेगा इस बार?” अमीना बेगम ने गहरी नजरों से मुआयना करते हुये पूछा। --“जी साबिर और मुख़्तार, ख़ालाजाद ...

नूरीन - 3
by Pradeep Shrivastava
  • (11)
  • 342

नूरीन प्रदीप श्रीवास्तव भाग 3 दादा बेड पर लेटे-लेटे उस बिल्डर का इंतजार कर रहे थे। जिसे वह बात करने के लिए फ़ोन कर बुला चुके थे। क्योंकि माफिया ...

औरतें रोती नहीं - 13
by Jayanti Ranganathan
  • (11)
  • 322

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 13 अधूरे ख्वाबों की सिसकियां उज्ज्वला की नजर से: मई 2006 इस तरह जिंदगी ने ली करवट। वो भी सिर्फ चंद महीनों में। ...

वो पता
by Medha Jha
  • 184

वो पतासाल २००० , जिंदगी का वह पहला सफ़र जब वो और सृष्टि पहुंचे थे मुंबई करीब ८ बजे संध्या। हां , मुंबई के लिए वो संध्या ही था, ...

रिश्ते.. - 2
by Sunita Agarwal
  • 396

उसका प्रसब का समय करीब आने लगा उसका भाई उसे लेने आया ताकि आभा का पहला प्रसब मायके में हो सके।आभा की सास ने उससे सारे अच्छे कपड़े जेवर ...

આત્મસન્માન
by Paru Desai
  • 416

                                                          ...

नूरीन - 2
by Pradeep Shrivastava
  • 430

नूरीन प्रदीप श्रीवास्तव भाग 2 हार कर वह अम्मी से बोली थी कि एक बार वह भी चाचाओं से बोले। लेकिन वह तो जैसे अंजाम का इंतजार कर रही ...

लव योर सेल्फ मम्मा
by Dr Vinita Rahurikar
  • 206

लव योर सेल्फ मम्मा ...किचन में मीनू के लिए मठरियाँ तलती अनुभा की आँखें बार-बार भर आ रही थीं. मन जाने कैसा तो हो रहा था। इसीलिए अपने मनोभावों ...

काश तुमने कह दिया होता
by Megha Rathi
  • 152

काश तुमने कह दिया होता कभी- कभी कुछ यादें ऐसी होती हैं जो इंसानियत और रिश्तों से विश्वाश तार-तार कर देती हैं। (पहचान छिपाने के लिए मैंने नाम व ...

लावण्यवती
by Shivani Anil Patil
  • 450

किंकाळ्या-आरोळ्या , आरडाओरडा रोजचंच झालंय हिचं, धड स्वत:ही जगत नाही आणि दुसर्यांना ही जगू देत नाही. काय पोरगी पदरात पाडले देवानं , वाटतं होतं पोरगी हुशार आहे, दिसायला सुंदर ...

औरतें रोती नहीं - 12
by Jayanti Ranganathan
  • 396

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 12 मेरी जिंदगी के सौदागर हैदराबाद एयरपोर्ट पर लैंडिंग से पहले उज्ज्वला एक तरह से होश में आ गई। अंदर का तापमान बीस ...

બાર ડાન્સર - 10 - છેલ્લો ભાગ
by Vibhavari Varma
  • (59)
  • 956

બાર ડાન્સર વિભાવરી વર્મા ચેપ્ટર : 10 “મતલબ ?” પાર્વતીના પગ નીચેથી જાણે જમીન સરકી ગઈ. “મૈં જીસ ડાન્સ-ટૂર મેં દૂબઈ જા રહૈલી હું. વો ટૂર કા અસલી ઑર્ગેનાઇઝર ...

આશુમાં-ધી રીયલ મધર ઇન્ડિયા પાર્ટ-1
by Mushtaq Mohamed Kazi
  • 472

      આશુ માં ધ રીયલ મધર ઇન્ડિયા  ભાગ૧        વર્ષો પહેલા મહેબૂબખાન નામ ના ગુજરાતી દિગ્દર્શકએ એક મૂવી બનાવી હતી નામ હતું "મધર ઇન્ડિયા."ફિલ્મ માં ભારતીય નારી ના ...