Best women focused in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

नारीयोत्तम नैना - 6
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (2)
  • 9

नारीयोत्तम नैना भाग-6 डोर बैल बज रही थी। सुप्रिया ने उठकर द्वार खोला। पिज्जा ब्वॉय द्वार पर पिज्जा लिये तैयार खड़ा था। सुप्रिया ने पिज्जा का पेमेंट किया। पिज्जा ...

તું પ્રેક્ટિકલ બન..!
by Dhara Modi
  • (5)
  • 102

       તું પ્રેક્ટિકલ બન...!      આજે આધવ અને ધરતી લગ્નગ્રંથીએ જોડાયા.રાત્રે રિસેપ્શન પૂર્ણ થઈ ગયાં બાદ બંન્ને હોટલે પહોંચ્યા.આધવ જોવાં આવ્યો ત્યારે પહેલી જ નજરે જોતાં ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय १२. - १३
by DILIP UTTAM
  • 7

-----अध्याय १२."अब मन नहीं |"-----   जितनी भी स्त्रियों की आत्महत्याएं होती हैं, वह अधिकतर पुरुषों के उकसाने के कारण ही होती हैं या उनके सताने के कारण ही ...

फ़ैसला - 12
by Rajesh Shukla
  • (5)
  • 54

फ़ैसला (12) आज वह दिन आ गया जब उसे खन्ना जी के कोर्ट जाना था। सिद्धेश ने सबेरे ही उनको फोन करके याद दिला दिया। फिर नौ बजे घर ...

આશરો
by Anami D
  • (6)
  • 157

ઘરના આંગણે એક સફેદ વાન આવીને ઉભી છે. ગામ ના નાના બાળકો એ વાનના ફરતે ફરી રહ્યા છે. પાડોશમાં રહેતા રાવજીભાઇ વાનમા આવેલ પેલા માણસ સાથે વાતો કરી રહ્યા ...

सबरीना - 29
by Dr Shushil Upadhyay
  • (1)
  • 30

सबरीना (29) वो खत, जो उन्होंने मेरी मां को लिखे थे।’ सुशांत और सबरीना काफी देर तक ऐसे ही खड़े रहे। डाॅ. मिर्जाएव ने सबरीना को टोका, ‘चलो, अब ...

नारीयोत्तम नैना - 5
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (4)
  • 47

नारीयोत्तम नैना भाग-5 राकेश के बेडरूम में कोलाहल होता हुआ देखकर धनीराम ने द्वार खोला--" तुम दोनों भाई-बहन फिर लड़ने लगे।" राकेश को भय था कि नूतन कहीं पापा ...

फ़ैसला - 11
by Rajesh Shukla
  • (8)
  • 100

फ़ैसला (11) अगले दिन सवेरे सिद्धेश ऑफिस जाने के लिए तैयार ही हो रहा था कि अचानक किसी ने कॉल बेल बजायी। उसकी आवाज से सिद्धेश भी खिड़की से ...

सजा, एक पुराना गुनाह
by Shweta sharma
  • (3)
  • 111

" शेखर, मिली मेरी बेटी?" रिचा ने हड़बड़ाते हुए अपने पति से पूछा, जो अभी अभी बाहर से आया है। " कहीं नहीं मिली सब जगह देख लिया।" दुखी ...

सबरीना - 28
by Dr Shushil Upadhyay
  • (1)
  • 44

सबरीना (28) दानिकोव की लार टपकाती निगाह दानिकोव बार-बार सबरीना की ओर देख रहा था। सुशांत ने एक बार दानिकोव और फिर सबरीना को देखा। सबरीना ने पहले सुशंात ...

HELP ME APP
by Rudra Sanjay Sharma
  • (1)
  • 47

जहाँ देखो वहाँ सभी जगह मासूम लड़कियों के साथ बर्बरता से बलात्कार की खबरें आम हो गई है।पूरा देश इस घिनोने अपराध को अनेको प्रयासों के पश्चात भी होने ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय ११.
by DILIP UTTAM
  • 16

-----अध्याय ११."प्रेम कहाँ?"-----   प्यार में प्राय: पुरुष ही नारी को धोखा देते हैं, क्यों? बहुत से पुरुष भाई यह कहते हैं कि शादी वह घर वालों की मर्जी ...

शादी व आत्मसम्मान
by Saroj Prajapati
  • (6)
  • 376

विमला जी आज सुबह से ही अपनी बेटी आरती के आने का इंतजार कर रही थी। उसकी शादी अभी 2 महीने पहले ही हुई थी। शादी के बाद पहली ...

कड़वा सच
by Chandni Sethi Kochar
  • 200

कड़वा सच मधु सुबह से आज बहुत परेशान थी,   क्योंकि उसको आज महसूस हो गया, कि वह कितनी भी अच्छी क्यों ना हो जाए , लेकिन रहेगी हमेशा एक ...

सबरीना - 27
by Dr Shushil Upadhyay
  • (2)
  • 90

सबरीना (27) ‘दस दिन यहां रहेंगे, बीस से बलात्कार करेंगे’ सबरीना ने लड़कियों को तीन हिस्सों में बांटा। सबसे पहले उन लड़कियों को पहचाना गया जो 18 साल से ...

नारीयोत्तम नैना - 4
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (2)
  • 46

नारीयोत्तम नैना भाग-4 "लेकिन तुम्हारी सफलता में रक्षंदा का हाथ है इससे तुम इंकर नहीं कर सकते।" नूतन बोली। "निश्चित ही मैं आज जो कुछ भी हूं वह रक्षंदा ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय १०.
by DILIP UTTAM
  • (1)
  • 37

-----अध्याय १०."काहे की स्वतंत्रता/नाम मात्र की स्वतंत्रता|"-----   पुरुष कहीं भी घूम सकता, कभी भी घूम सकता है, रात-बिरात कभी भी परंतु नारी नहीं घूम सकती| वह भी पुरुषों ...

फ़ैसला - 10
by Rajesh Shukla
  • (7)
  • 201

फ़ैसला (10) इस तरह से धीरे-धीरे दो दिन का समय भी बीत गया। सबेरे-सबेरे ही उठकर सिद्धेश ने एडवोकेट खन्ना और अपने अभिन्न मित्र डा. के.डी. से सुगन्धा को ...

सबरीना - 26
by Dr Shushil Upadhyay
  • (1)
  • 63

सबरीना (26) दानिकोव काफी अदब से मिला जारीना ने डा. मिर्जाएव को गेट की ओर देखने का इशारा किया। वे अभी तक उनींदे-से लग रहे थे, लेकिन गेट की ...

સ્ત્રી
by Akshay Akki
  • (2)
  • 234

                         સ્ત્રી એટલે? તો કે સ્ત્રી એટલે કરુણા, દયા નો સાગર, તેના નાના બાળક થી લઈને મોટા વૃદ્ધ ...

नारीयोत्तम नैना - 3
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (5)
  • 129

नारीयोत्तम नैना भाग-3 "अरे ऐसा नहीं है रे! मेरे जैसी बहुत सी लड़की उनके आगे पीछे घूमती है।" नैना ने बताया। "तुझे कैसे पता?" नूतन ने आश्चर्य से पुछा। ...

फ़ैसला - 9
by Rajesh Shukla
  • (4)
  • 206

फ़ैसला (9) देर रात में सोने के बाद भी सिद्धेश सबेरे 8 बजे ही उठ गया। उसने सबसे पहले सुगन्धा के कमरे को जाकर देखा। वह नहाकर आते हुए ...

सबरीना - 25
by Dr Shushil Upadhyay
  • (2)
  • 72

सबरीना (25) मेरे साथ हिन्दुस्तान चलो सबरीना! ’प्रोफेसर तारीकबी मुझे ले तो आए, लेकिन एक दिन मैं वहां से भाग निकली। मुझे लगा, मैं शराब और सैक्स की आदी ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय ९.
by DILIP UTTAM
  • 66

----अध्याय ९."जरा सी गलती माफ नहीं |"-----   जरा सी बात पर पत्नी पर हाथ उठाना, गाली देना, क्रोध करना कहां तक जायज है? सब्जी में मिर्च ज्यादा हो ...

ગેરસમજ
by Mahesh makvana
  • (2)
  • 265

પ્રેમ શબ્દ જેટલો ગેરસમજ થાય તેટલો ગેરસમજ થાય છે, માનવ ભાષામાં કદાચ આ બીજો કોઈ શબ્દ નથી!  આ સંસારની બધી હલફલ, હિંસા, વિખવાદ, સંઘર્ષ અને સંઘર્ષ, જે પ્રેમના સંબંધમાં ...

सबरीना - 24
by Dr Shushil Upadhyay
  • (2)
  • 112

सबरीना (24) ‘हर रोज शराब, हर रोज नए देहखोर, नए ठिकाने।‘ प्रोफेसर तारीकबी हमेशा के लिए विदा हो गए थे। हर कोई उनसे जुड़ी स्मृतियों का जिक्र कर रहा ...

नारीयोत्तम नैना - 2
by Jitendra Shivhare Verified icon
  • (4)
  • 100

नारीयोत्तम नैना भाग-2 निश्चित ही यह अति संवेदनशील और दो धारी तलवार के समान परिणाम देने के जैसा कार्य था। 'नैना की ट्यूशन में बच्चें अधिक बिगड़ैल हो गये ...

उसका आकाश धुँधला है.....
by Sudha Om Dhingra
  • (3)
  • 173

उसका आकाश धुँधला है..... सुधा ओम ढींगरा वर्षों पहले उन दोनों ने कुछ निर्णय लिए थे और एक दूसरे को पत्र लिखने का बचन दिया था। जिसे वे ईमेल ...

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा) - अध्याय ८
by DILIP UTTAM
  • (2)
  • 59

आधा मुद्दा (सबसे बड़ा मुद्दा)-अध्याय ८. पति का सर दर्द ,पैर दर्द ,शरीर दर्द हो तो पत्नी दबाये कुछ लोगों की इतनी आदत पड़ जाती है कि बिना दर्द ...

फ़ैसला - 8
by Rajesh Shukla
  • (11)
  • 231

फ़ैसला (8) आज सबेरे ही मुझे बहुत अजीब लग रहा था। दिल में रह रहकर घबड़ाहट होने लगती थी। ऐसा होने पर सीना पकड़ कर जब मैं बैठ जाती ...