Gazal by pradeep Tripathi in Hindi Poems PDF

गज़ल

by pradeep Tripathi in Hindi Poems

देखें हैं मैंने कल एक चिराग की ताकत।रोशनी ने इसके कई अफ़सर बना दिया।।मन्दिर है दिल इसमें रोशनी खुदा है।कर्मो ने किसी को राम तो किसीको रावण बना दिया।।मेरी जिंदगी मुझसे डरती जा रही है।अब लगता है कि मौत ...Read More