Thanks Mummy-Daddy by राकेश सोहम् in Hindi Philosophy PDF

थैंक्स मम्मी-डैडी

by राकेश सोहम् in Hindi Philosophy

छेड़छाड़ के बाद खुदकशी – दैनिक अखबार के मुख्य पृष्ठ पर प्राथमिकता से छपे शीर्षक को पढ़कर मिनी बेचैन हो उठी. जब भी वह ऐसे समाचार सुनती या पढ़ती है बेचैन हो जाती है. आज वह अपने माता-पिता से ...Read More