Jab rakshak bhakshak ban jaaye by Ajay Amitabh Suman in Hindi Poems PDF

जब रक्षक भक्षक बन जाएं

by Ajay Amitabh Suman Matrubharti Verified in Hindi Poems

(१) जब रक्षक भक्षक बन जाए तुम्हें चाहिए क्या आजादी , सबपे रोब जमाने की , यदि कोई तुझपे तन जाए , तो क्या बन्दुक चलाने की ? ये शोर शराबा कैसा है ,क्या प्रस्तुति अभिव्यक्ति की ...Read More