shayari - 4 by pradeep Kumar Tripathi in Hindi Poems PDF

शायरी - 4

by pradeep Kumar Tripathi in Hindi Poems

कोई इश्क की खातिर मेरे दिल को झिझोड़ रखा हैदिल से पूंछा तो पता चला वो रिश्ता हीं हमसे तोड़ रखा हैतुम कहो तो ज़िन्दगी को गला देता हूंउससे तुम्हारे लिए एक रुमाल बना देता हूंमैं जीते जी तुम्हें ...Read More