Atrupt aatma - 2 by pratibha singh in Hindi Horror Stories PDF

अतृप्त आत्मा भाग-2

by pratibha singh in Hindi Horror Stories

मुझे होश कब आया मैं कितनी देर बेहोश रही कुछ नही पता पर जब मेरी आँख खुली तो रात हो चुकी थी ,क्योंकि आसमान में तारे दिख रहे थे , पर तभी अचानक मुझे याद आया कि मैं तो ...Read More