Shero-shayri by Rajashree Nemade in Hindi Poems PDF

शेरो-शायरी

by Rajashree Nemade in Hindi Poems

माँ के लिए १.वक्त ने भी क्या हसी सितम कर दिया, दुसरो के सामने हमे नजरे झुकाना सिखा दिया, पहले तो हम कभी ऐसे ना थे, लेकीन इस समय ने हमे बदलना सिखा दिया ।२. आपमे कुछ अलग बात ...Read More