dohri maar by Dr Narendra Shukl in Hindi Short Stories PDF

दोहरी मार

by Dr Narendra Shukl in Hindi Short Stories

आलू है । गोभी है । प्याज़ है । ‘ रात के करीब आठ बजे कड़कती ठंड में सुनसान - सी पड़ी सड़क के एक कोने में किसी बच्चे की आवाज़ सनकर मैं चैंका ! शायद , कोई नया ...Read More