silent words by Er Bhargav Joshi in Hindi Poems PDF

ख़ामोश लफ्ज़

by Er Bhargav Joshi in Hindi Poems

हादसों से ही हमारी पहचान बनती है,बिना दर्द के छवि कहां आसान बनती है।******* ****** ******* ****** *******उछलता है कोई घाव मुझ में लहर बनकर,पता तो करो किसने दिया है रूह बनकर।****** ****** ****** ******* *******तुझसे मिलने का तो ...Read More